दो माह से सड़ रही राहत सामग्री, बाढ़ पीड़ित भूख से बेहाल

जरूरतमंदों को वितरण में जिम्मेदारों ने नहीं दिखाई दिलचस्पी -स्कूल के कमरे में बोरियों में रखे आलू सड़ने से नौनिहालों का सांस लेना मुहाल

JagranWed, 27 Oct 2021 10:25 PM (IST)
दो माह से सड़ रही राहत सामग्री, बाढ़ पीड़ित भूख से बेहाल

बलरामपुर: जिले में आपदा के शिकार लोगों को मदद पहुंचाने में जिम्मेदार कितने संजीदा हैं, इसकी कलई खुल गई है। सरकार ने बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए राहत सामग्री तो पहुंचाई, लेकिन वह राहत केंद्रों पर रखी सड़ गई। बाढ़ राहत केंद्र बने प्राथमिक विद्यालय महराजगंज तराई के कमरे में कई माह से बोरियों में बंद आलू सड़ने लगे, तो उसकी गंध नौनिहालों को सताने लगी। उपजिलाधिकारी ने जांच कराने की बात कही है।

बाढ़ के दौरान राहत केंद्र बने प्राथमिक विद्यालय महाराजगंज में कमरे में बाढ़ राहत सामग्री की करीब 40 बोरियां रखवाई गई थीं। इसका वितरण कराने में अफसरों ने दिलचस्पी नहीं दिखाई। नतीजा, दो माह से रखी राहत सामग्री सड़ने लगी। आलू की सड़न से न सिर्फ विद्यालय के नौनिहालों का सांस लेना दूभर है, बल्कि संक्रामक बीमारी फैलने की भी आशंका बढ़ गई है।

शुभम, बाबू, लक्ष्मी, रोली, गुड़िया, पवन, अशोक, अजय आदि छात्र-छात्राओं का कहना है कि कई बच्चों को सड़न व बदबू के कारण उल्टी भी हुई है। स्कूल में फैले आलू की दुर्गध के बीच यहां बैठना मुश्किल हो गया है।

राजस्व निरीक्षक ओम प्रकाश का कहना है कि दो दिन के अंदर राहत सामग्री वितरित कर दी जाएगी।

खाद्य सुरक्षा टीम ने बाजार में छापेमारी कर लिए नमूने

बलरामपुर: खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की टीम ने दीपावली के मद्देनजर नगर क्षेत्र में छापेमारी अभियान चलाया। इस दौरान दुकानों से खाद्य पदार्थो के नमूने लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा गया।

अभिहित अधिकारी योगेश कुमार त्रिवेदी व मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी विनोद कुमार पांडेय के नेतृत्व में टीम ने चौक स्थित राम मिष्ठान भंडार के यहां से पेड़ा व राधिका बेकरी एंड आइसक्रीम पार्लर से बिस्कुट का नमूना लिया। कपिल जनरल स्टोर चौक व फर्राशखाना में अनिल कटरहा को साफ-सफाई रखने व पुरानी खाद्य सामग्री को नष्ट करने की हिदायत दी। टीम में खाद्य सुरक्षा अधिकारी लालमणि यादव, बृजेश कुमार वर्मा, कमला रावत व सत्यवीर सिंह शामिल रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.