टंकी पर खर्च हो गए 90 लाख, नहीं मिला पानी

बलरामपुर : कस्बावासियों को शुद्ध पेयजल मुहैया कराने के लिए पानी टंकी का निर्माण करवाया गया, लेकिन लोगों को बूंदभर पानी नसीब नहीं हो सका। लोगों ने पेयजल आपूर्ति शुरू कराने के लिए आवाज उठाई। बावजूद इसके अफसरों की आंखें नहीं खुली। जिससे लोग प्रदूषित पानी को विवश हैं।

ग्रामीणों के बोल

सरदार सुरेंद्र ¨सह, सुरेश कुमार सोनी का कहना है कि बाजार व गैंसड़ीडीह गांव में वर्ष 2006 में 90 लाख रुपये की लागत से पानी टंकी का निर्माण करवाया गया था। गुणवत्ता विहीन पाइप लाइन बिछाए जाने से वह क्षतिग्रस्त हो गई। सरदार परमजीत ¨सह ने बताया कि दो वर्षों से डिब्बा का पानी खरीदकर पीना पड़ता है। दीपक जायसवाल, इम्तियाज खान व डीएन यादव ने बताया कि यहां का पानी पीने योग्य नहीं है। जलापूर्ति न होने से उन लोगों को दूषित पानी पीना पड़ रहा है। सोलर प्लेट उठा ले गए चोर

-गैंसड़ी गांव में बने पानी टंकी के पास लाखों रुपये की लागत से लगाया गया सोलर प्लेट चोर उठा ले गए। स्टेशन मार्ग तक जाने वाली पाइप लाइन क्षतिग्रस्त है। जल आपूर्ति दो वर्ष से ठप है।

जिम्मेदार के बोल ग्राम प्रधान सलीम अहमद ने बताया कि दोनों पानी टंकी से बिछाई गई पाइप लाइन क्षतिग्रस्त है। ग्राम पंचायत धनराशि देने को तैयार है। जिससे पाइप लाइन बिछाई जा सके। जलनिगम के अधिशाषी अभियंता को दो माह पहले स्टीमेट बनाकर दिया जा चुका है, लेकिन अफसर हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.