अभियान चलाकर परखेंगे नौनिहालों की सेहत

अभियान चलाकर परखेंगे नौनिहालों की सेहत

मंगलवार को आंगनबाड़ी केंद्रों पर पांच साल तक के पांच लाख बचों को किया जाएगा शामिल बुधवार को आशा एएनएम सीएचओ कुपोषितों का शुरू करेंगे उपचार

JagranSun, 28 Feb 2021 10:05 PM (IST)

बलरामपुर : जिले में स्वास्थ्य एवं बाल विकास विकास पुष्टाहार विभाग मिलकर दो दिवसीय अभियान चलाएगा। इसमें पांच साल तक के पांच लाख से अधिक बच्चों की सेहत परखी जाएगी। पहले मंगलवार को आंगनबाड़ी केंद्रों पर वजन दिवस मनाया जाएगा। इसमें आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने क्षेत्र के शिशुओं को लाकर उनका वजन कराएंगे। वजन और लंबाई के आधार पर कुपोषित व अति कुपोषित बच्चों की पहचान की जाएगी।

इसके बाद बुधवार को सभी हेल्थ वेलनेस सेंटर पर विलेज हेल्थ, सैनिटाइजेशन एंड न्यूट्रीशन डे (वीएचएसएनडी) यानी ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस आयोजित किया जाएगा। इसमें कुपोषित व अतिकुपोषित बच्चों को स्वस्थ बनाने के लिए एएनएम व सीएचओ मिलकर उपचार शुरू करेंगी। कुपोषित बच्चों को पौष्टिक आहार देने व अतिकुपोषित बच्चों को आयरन फोलिक एसिड, विटामिन ए सीरप, फोलिक एसिड, एलबेंडाजाल आदि दवाएं देने के साथ जरूरत पड़ने पर उन्हें ब्लॉक स्तरीय चिकित्सकों के पास भेजा जाएगा। यहां भी राहत न मिलने पर ऐसे बच्चों को जिला मेमोरियल अस्पताल स्थित पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती कराया जाएगा। आशा इन बच्चों के घर जाकर स्वास्थ्य की निगरानी करेंगी। वजन में गिरावट, भूख न लगने, चिड़चिड़ापन आने की स्थिति में एएनएम समेत अन्य अधिकारियों को स्थिति से अवगत कराएंगी। घर-घर जाकर आशा करेंगी देखभाल, पाएंगी भत्ता :

- दो दिवसीय अभियान में आशा की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व एएनएम के साथ आशाएं क्षेत्र के बच्चों के सेहत पर नजर रखेंगी। चिकित्सा प्राप्त कर चुके अति कुपोषित बच्चों के स्वास्थ्य में प्रगति व गिरावट की समीक्षा करेंगी। अति कुपोषित बच्चों को पोषण पुनर्वास केंद्र पर पहुंचाने के लिए 50 रुपया भत्ता दिया जाएगा जबकि चार बार निगरानी के लिए उसे 100 रुपये दिए जाएंगे।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. बीपी सिंह ने बताया कि हर माह के पहले मंगलवार को आंगनबाड़ी केंद्रों पर वजन दिवस मनाते हुए कुपोषित व अतिकुपोषित बच्चों की पहचान की जाएगी। बुधवार को उप स्वास्थ्य केंद्रों पर बीएचएसएनडी का आयोजन कर कुपोषित बच्चों को तंदुरुस्त बनाया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.