पानी देगी पानी तो धरती ओढ़ेगी चुनर धानी

निजी संस्था 100 किसानों को दे रही सोलर पंप छह ब्लाकों का कोई भी किसान ले सकेगा लाभ

JagranSun, 26 Sep 2021 09:57 PM (IST)
पानी देगी 'पानी' तो धरती ओढ़ेगी चुनर धानी

बलरामपुर: बढ़ते डीजल मूल्य से खेती महंगी होती जा रही है। ऐसे में, परेशान अन्नदाता अब किसानी छोड़ दूसरे व्यवसायों में हाथ आजमा रहा है। इसे देखते हुए कृषि विभाग ने सोलर पंप लगाने की योजना चलाई, लेकिन लेटलतीफी व भ्रष्टाचार के चलते उसका लाभ जरूरतमंद छोटे किसानों को नहीं मिल पा रहा है। इसका सबसे अधिक दुष्प्रभाव सब्जी की खेती पर पड़ा है क्योंकि सब्जी की खेती में अधिक पानी की आवश्यकता पड़ती है।

यही कारण है कि सब्जी की खेती दिनोंदिन महंगी होती जा रही है। इसका खामियाजा किसानों के साथ आम लोगों को भी भुगतना पड़ रहा है। इसे देखते हुए 'पानी' संस्था ने सब्जी की खेती करने वाले किसानों को छूट पर सोलर पंप देने की पहल की है।

बलरामपुर सदर, तुलसीपुर, गैंसड़ी, श्रीदत्तगंज, उतरौला, रेहरा बाजार ब्लाक को गोद लेकर वहां आधुनिक खेती सिखा रही 'पानी' अब 100 किसानों को सोलर पंप दे रही है। एक लाख 64 हजार रुपये कीमत वाले इस सोलर पंप पर एक लाख 15 हजार रुपये का खर्च कंपनी उठाएगी जबकि 49286 रुपये किसानों को लगाने होंगे।

वहीं, दो साल बीमा व पांच साल मरम्मत की सुविधा वाला यह सोलर पंप भी डीजल पंप की तरह 20 फीट गहराई से चार इंच व्यास वाली पाइप भरकर पानी निकाल लेता है। अब तक 66 किसान चयनित हो चुके है। गैंसड़ी ब्लाक के वशीर अहमद समेत 40 किसानों ने सोलर पंप लगवाया है। इनके खेतों में सोलर पंप से निकले पानी से धरती धानी चुनर ओढ़ रही है।

66 किसान चयनित, 40 ने शुरू की सिचाई:

पानी संस्था के जिला प्रबंधक राजीव मिश्र ने बताया कि चयनित छह ब्लाकों में मचान विधि या कंपनी द्वारा बताई विधि से खेती करने वाले खासकर सब्जी किसानों को लाभ दिया जा रहा है। किसान आधार कार्ड, एक एकड़ से अधिक खतौनी, फोटो व कृषक अंश की धनराशि का चेक कंपनी के नाम देकर आवेदन कर सकते हैं। पखवारे भर बाद सोलर पंप लगवा दिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.