एंबुलेंस कर्मियों व कंपनी में ठनी, धरना जारी

सेवा प्रदाता ने शुरू की नई भर्ती कर्मियों ने दी आंदोलन तेज करने की चेतावनी

JagranSat, 31 Jul 2021 10:24 PM (IST)
एंबुलेंस कर्मियों व कंपनी में ठनी, धरना जारी

बलरामपुर: मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे एंबुलेंस कर्मियों व सेवा प्रदाता जीबीकेईएमआरआइ कंपनी में ठन गई है। कंपनी ने काम पर वापस न लौटने वाले कर्मियों की जगह चालकों व ईएमटी तैनाती के लिए नई भर्ती निकाल दी है।

कंपनी ने गोंडा, बलरामपुर, बहराइच व श्रावस्ती में एंबुलेंस कर्मियों की नियुक्ति के लिए बहराइच के चितौरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को भर्ती स्थल घोषित किया है। यहां दो अगस्त तक सुबह 10 से शाम चार बजे तक कर्मियों की भर्ती की जाएगी। भर्ती कराने को लेकर एक बार फिर बिचौलिये सक्रिय हो गए हैं जो बेरोजगारों को नौकरी के सपने दिखाकर पायलेट व ईएमटी पद पर नियुक्त कराने के लिए सेटिग करने में जुट गए हैं।

उधर, बड़ा परेड ग्राउंड में धरना दे रहे एंबुलेंस कर्मी कार्य पर लौटने को तैयार नहीं हैं। कर्मियों का आरोप है कि कंपनी में बैठे कुछ लोग उनका शोषण कर रहे हैं जिससे कार्य करना मुश्किल हो गया है। एक-एक दिन में 16 केस लाने की मांग की जाती है और न मिलने पर नौकरी से निकाल देने की धमकी दी जा रही है। अत्यधिक शोषण से कर्मचारियों का धैर्य जवाब दे रहा है।

जीवनदायिनी एंबुलेंस कर्मचारी संघ के अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह का कहना है कि कर्मचारियों पर दबाव बनाने के लिए भर्ती निकाली गई है, लेकिन अब समझौता नहीं आरपार की लड़ाई होगी। सभी एंबुलेंस कर्मी अपनी मांगों को लेकर कार्य बहिष्कार कर धरना देते रहेंगे। संगठन से निर्देश मिलने पर आंदोलन तेज किया जाएगा।

धरना देने वालों में सूरज पांडेय, राम शंकर सिंह, राजकुमार जायसवाल, प्रिस सिंह, बुधराम वर्मा, रमेश मिश्रा, अनुज कुमार, अभय वर्मा, राजेंद्र तिवारी, अमरनाथ यादव, अमरदीप उपाध्याय, राजेश पांडेय, विजय पाठक, राम सांवरे पटेल, राम कुमार त्रिपाठी समेत अन्य एंबुलेंस कर्मी शामिल रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.