दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

सात की जगह सिर्फ दो गेहूं क्रय केंद्र

सात की जगह सिर्फ दो गेहूं क्रय केंद्र

गेहूं क्रय केंद्रों को लेकर सही तरीके से योजना नहीं ब

JagranSat, 08 May 2021 03:43 PM (IST)

जागरण संवाददाता, इंदरपुर (बलिया) : गेहूं क्रय केंद्रों को लेकर सही तरीके से योजना नहीं बनाने के कारण परेशानियां बढ़ती जा रही है। चिलकहर ब्लॉक में पिछले साल धान खरीद के लिए सात केंद्र खोले गए थे जबकि इस बार गेहूं के लिए मात्र दो केंद्र बनाए गए हैं। एक केंद्र पर 10 ग्राम पंचायतों के किसानों से खरीद की जाती है। इस ब्लॉक में 66 ग्राम पंचायतें आती हैं। दो केंद्रों पर 20 ग्राम सभाओं के नाम पंजीकृत हैं।

बसनवार, सलेमपुर, पियरही, सिकरियां, इंदरपुर व मझौवां के अलावा नगपुरा में धान खरीद के लिए केंद्र बनाए गए थे। इस बार भी किसानों को उम्मीद थी कि सभी केंद्रों पर गेहूं की भी खरीद होगी। उनकी उम्मीद से परे सिर्फ बर्रेबोझ व नगपुरा केंद्र ही संचालित किए गए हैं। बर्रेबोझ केंद्र पर गोदाम भरने से खरीद बंद हो गई है। ऐसे में हजारों किसानों की मेहनत की कमाई पर संकट के बादल छा गए हैं। उन्हें समझ में नहीं आ रहा कि करें तो क्या करें। उन्हें केंद्रों से लौटना पड़ रहा है। किसानों का गेहूं उनके दरवाजे पर पड़ा है। बर्रेबोझ केंद्र के संचालक श्रीकांत सिंह ने कहा कि पंजीकरण कराने वाले किसानों का गेहूं खरीदा जा रहा है। जितना गेहूं आएगा खरीदारी की जाएगी। गोदाम भरने से समस्या हो रही है। 21 किसानों से 1237 क्विटल गेहूं की खरीदारी हुई है।

----------------

64 किसानों से 2974 क्विंटल

गेहूं की खरीद

चिलकहर : विपणन विभाग के गेहूं क्रय केंद्र नगपुरा पर खरीद जारी है। यहां ट्रैक्टर ट्रालियों की लाइन देखी जा सकती है। विपणन निरीक्षक वीरेंद्र सिंह ने कहा कि गुरुवार तक 64 किसानों से 2974 क्विंटल गेहूं खरीदा जा चुका है। शासन के निर्देश पर टोकन के नंबर के आधार पर खरीद की जा रही है।

---------------------

फोटो 13 -- गेहूं क्रय केंद्र पर लापरवाही, पूर्व मंत्री ने उठाए सवाल

जागरण संवाददाता, सिकंदरपुर (बलिया) : भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता व उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री राजधारी सिंह ने अधिकारियों पर गेहूं की खरीद में लापरवाही व उदासीनता का आरोप लगाया है। उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री व उच्चाधिकारियों से बलिया जनपद में गेहूं की खरीद में हो रही धांधली की जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है। आरोप लगाया है कि सरकार द्वारा गेहूं क्रय करने के दिशा निर्देश के बावजूद किसानों का गेहूं कहीं भी क्रय केंद्रों पर नहीं लिया जा रहा है और न ही अधिकारियों द्वारा बोरा उपलब्ध कराया जा रहा है। जबकि बिचौलिए गांव में जाकर किसानों से 1550 से लेकर 1600 प्रति क्विंटल की खरीद कर रहे हैं और वही गेंहू केंद्रों पर लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शादी कार्यक्रमों के चलते किसान अपना गेहूं बिचौलियों को बेच दे रहे हैं। सरकार द्वारा दिए जा रहे गेंहू का समर्थन मूल्य किसानों को नहीं मिल पा रहा है। कहा कि तत्काल अगर किसानों का गेहूं क्रय केंद्रों पर नहीं लिया गया तो भाजपा कार्यकर्ता आंदोलन को बाध्य होंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.