कटान से बेघर परिवारों को बसाने का मुद्दा गरमाया

जागरण संवाददाता बलिया गंगा और सरयू के कटान से बेघर लोगों की जिदगी लंबे समय से दुखों क

JagranTue, 13 Jul 2021 05:32 PM (IST)
कटान से बेघर परिवारों को बसाने का मुद्दा गरमाया

जागरण संवाददाता, बलिया : गंगा और सरयू के कटान से बेघर लोगों की जिदगी लंबे समय से दु:खों के पहाड़ तले ही दबी है। वे सड़क किनारे जीवन बसर करने को मजबूर हैं। सरकार के फरमान के बाद भी सदर और बैरिया तहसील के अधिकारी बेघर लोगों को बसाने में विफल हैं। सरयू नदी की कटान से वर्ष 2017 में इब्राहिमाबाद नौबरार के बेघर हुए 152 लोगों को जमीन का पट्टा दिया गया, जिसमें से मात्र नौ लोगों को बकुल्हां रेलवे स्टेशन के पास कब्जा दिलाया। शेष 143 लोग अभी भी इंतजार कर रहे हैं। इधर जुलाई में एक बार फिर उनको बसाने का मुद्दा गरमाने लगा है। वर्ष 2011 में इब्राहिमाबाद उपरवार पंचायत के 69 और वर्ष 2016 में नारायणगढ़ के 160 भूमिहीनों को भी बसने के लिए जमीन का पट्टा दिया गया। कुल मिला कर 372 लोग है, जिन्हें जमीन का पट्टा दिया जा चुका है लेकिन उस पर कब्जा नहीं दिलाया जा सका। अभी भी पट्टे की जमीन पर दूसरों का कब्जा है। -------------------- 347 कटान पीड़ितों के लिए नहीं खरीदी जमीन वर्ष 2016 से अब तक कटान से बेघर हुए केहरपुर के 149, गोपालपुर के 103, गंगापुर के 65 और बहुआरा के 30 परिवार को नए स्थान पर जमीन खरीद कर बसाना था। इधर बैरिया तहसील प्रशासन ने कटान पीड़ितों को दयाछपरा के पास बसाने की कवायद शुरू की थी लेकिन वहां विरोध शुरू हो गया। तहसील प्रशासन कटान स्थल से 14 किलोमीटर दूर मुनिछपरा में ग्राम समाज की जमीन पर बसाने की प्रक्रिया शुरू की है। ------------------- 23 जुलाई को चांददियर में पहुंचेंगे कटान पीड़ित

कटान पीड़ितों की लड़ाई लड़ने वाले इंटक के जिलाध्यक्ष विनोद सिंह का कहना है कि शासनादेश के अनुसार कटान पीड़ितों को जमीन खरीदकर गांव के पास ही बसाने की व्यवस्था है। ऐसा पहले भी हो चुका है, लेकिन बैरिया तहसील प्रशासन अलग राह पर है। ऐसे में मै स्वयं 23 जुलाई को इब्राहिमाबाद नौबरार के कटान पीड़ितों को लेकर आवंटित जमीन पर जाऊंगा। कटान पीड़ित स्वयं ही साफ-सफाई कर वहां बसाने का कार्य करेंगे। -----वर्जन----- शासन की मंशा के अनुरूप कटान पीड़ितों को बसाने की योजना चल रही है। त्वरित गति से उन्हें बसाने कार्य होगा। बैरिया के एसडीएम से भी इस संबंध में वार्ता चल रही है।

- गुलाब चंद्रा, एसडीएम, नोडल अधिकारी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.