साज-सज्जा के सामानों व डिजाइन वाली मोमबत्तियों से पटा बाजार

जागरण संवाददाता, बलिया : दीपावली अथवा दीवाली, प्रकाश उत्सव है, जो सत्य की जीत व आध्यात्मिक अज्ञान को दूर करने का प्रतीक है। इस त्योहार में हर कोई घर में नयापन लाने के लिए 10 दिन पहले से ही जुट जाता है। यही वजह है कि दीपावली की तैयारियों के लिए बाजारों में लोगों के कदम पड़ने लगे हैं। शहर के इंदू मार्केट, शहीद पार्क चौक, स्टेशन रोड आदि स्थानों पर दिवाली की खरीदारी से बाजार गुलजार होते दिखाई दे रही हैं। शहर की मुख्य सड़कों पर घर की साज-सज्जा और त्योहार की सामग्री की दुकानें, स्टाल सज गए हैं। ग्राहकों को लुभाने के लिए दुकानदार इलेक्ट्रानिक्स उत्पादों पर छूट से लेकर फाइनेंस तक की सुविधा दे रहे हैं। फुटकर विक्रेता नकद नारायण पर ही भरोसा कर रहे हैं।

दिवाली से पहले धनतेरस का भी खास महत्व होता है। इसे लेकर भी शहर के दुकानदारों, खास कर बर्तन विक्रेताओं व इलेक्ट्रानिक्स उत्पाद बेचने वालों ने विशेष तैयारी की है। स्वर्ण आभूषणों की दुकानें भी पूरी तरह से सज कर तैयार हैं। आर्टिफिशियल फूल, लड़ियां, स्वागत द्वार पट्टिका, रंगोली, रोशनी के लिए तरह-तरह डिजाइन की मोमबत्तियां, मिट्टी के डिजाइनर दीये, प्रसाद के लिए खील बतासे, कई प्रकार के लड्डू आदि के स्टाल दुकानों के बाहर लगे हुए थे। इन सबके चलते बाजार की मुख्य सड़कें संकरी हो गई हैं, पर दिवाली के दौरान आम तौर यह सब चलता ही है और इनके बिना रंगत भी नहीं दिखाई देती, हालांकि किसी तरह का हादसा होने पर मुश्किलें भी आती हैं। इनसेट--घर व प्लाट की खरीदारी में भी चल रहे कई आफर

दीपावली के समय को घर और जमीन खरीदने के लिए भी लोग शुभ मानते हैं। इसके लिए रियल स्टेट के अलावा कई अन्य प्राइवेट कंपनियां भी बलिया में लंबे समय से काम कर रही है। अभी के समय में डिस्काउंट सहित फाइनेंस पर भी घर और प्लाट देने के कई आफर चल रहे हैं, इसका असर बलिया में भी है। लखनऊ व वाराणसी की भी बड़ी कंपनियां बलिया में आकर शिविर का आयोजन कर बलिया से बाहर भी फ्लैट या प्लाट का आफर देकर बिक्री कर रही हैं।

जरूरतमंद लोग भी इस मौके का लाभ उठाने में पीछे नहीं है। प्लाट की खरीदारी पर किस्तों में भी भुगतान की सुविधा कई कंपनियों द्वारा दिया जा रहा है। बीते कुछ सालों में रियल स्टेट मार्केट में बिकने वाले फ्लैटों की संख्या बढ़ी है। वहीं फ्लैट के खरीदार कम हुए हैं। निर्मित फ्लैटों को खरीदने से ज्यादा ग्राहकों की प्लाट पंसद हैं। ऐसा इसलिए कि वे प्लाट में अपने पंसद से फ्लैट का निर्माण करा सकेंगे जबकि फ्लैट खरीदने पर वे मनचाहा काम नहीं करा सकते। इस वजह से बिल्डर भी फ्लैट से ज्यादा प्लाटिग कर ही अपने व्यापार में मुनाफा कमा रहे हैं। नगर में भी इसी तरह के व्यापार में कई प्राइवेट कंपनियां तेजी से काम कर रही है और भारी मुनाफा कमा रही है। नगर के आसपास प्लाटिग का कारोबार तेजी से चल रहा है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.