अफसरों की लापरवाही से भूखे पेट सोए बाढ़ पीड़ित

अफसरों की लापरवाही से भूखे पेट सोए बाढ़ पीड़ित

सरकारी कर्मचारियों व अधिकारियों के मनमानी व लापरवाही के चलते दो गांवों के लगभग एक हजार बाढ़ पीड़ितों को सोमवार की रात भूखे पेट सोना पड़ा। वजह कि सरकार द्वारा रोज शाम को उपलब्ध कराए जाने वाले बना-बनाया भोजन के पैकेट इन गांवों में पहुंचा ही नहीं। भूख के कारण बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल था। किसी तरह गरीब मां-बाप बिस्कुट आदि खिलाकर चुप करा रहे थे।

Publish Date:Tue, 24 Sep 2019 10:58 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, बैरिया (बलिया): सरकारी कर्मचारियों व अधिकारियों के मनमानी व लापरवाही के चलते दो गांवों के लगभग एक हजार बाढ़ पीड़ितों को सोमवार की रात भूखे पेट सोना पड़ा। वजह कि सरकार द्वारा रोज शाम को उपलब्ध कराए जाने वाले बना-बनाए गए भोजन के पैकेट इन गांवों में पहुंचे ही नहीं। भूख के कारण बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल था। किसी तरह गरीब मां-बाप बिस्कुट आदि खिलाकर चुप करा रहे थे। देर रात तक भोजन नहीं पहुंच पाने के कारण बड़े-बूढ़ों के अलावा बच्चे भी रोते-रोते सो गए। यह मामला बैरिया तहसील क्षेत्र के बाढ़ से डूबे पांडेयपुर, चितामणि राय के टोला, मुरली छपरा आदि गांवों का है, जहां रोज की भांति भोजन का पैकेट लेकर सरकारी विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उन्हें उपलब्ध कराने के लिए नहीं पहुंचे थे। इस घटना को गंभीरता से लेते हुए विधायक सुरेंद्र सिंह ने जिलाधिकारी को पूरी घटना की जानकारी देते हुए दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने के साथ ही तत्काल भोजन के पैकेट बाढ़ पीड़ितों को भेजवाने का आग्रह किया है। साथ ही बाढ़ पीड़ितों से असुविधा के लिए खेद व्यक्त करते हुए विधायक ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि ध्यान रखूंगा कि आइंदे से ऐसा न होने पाए। ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि इस बाबत कई बार तहसीलदार व एसडीएम को फोन करके बताने का प्रयास किया गया लेकिन दोनों अधिकारियों ने बाढ़ पीड़ितों का फोन तक रिसीव नहीं किया। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि बाढ़ पीड़ितों की समस्या को लेकर अधिकारी कर्मचारी कितने गंभीर हैं। -बाढ़ राहत वितरण स्थल पर पहुंचे एसडीएम, दिए निर्देश

मंगलवार को उपजिलाधिकारी बैरिया दुष्यंत कुमार मौर्य ने बाढ़ राहत वितरित स्थल मुरारपट्टी इंटर कालेज पर पहुंचे। बताया कि दोकटी थाना क्षेत्र के न्याय पंचायत मुरारपट्टी के बाढ़ पीड़ितों के लिए मुरारपट्टी के गड़ेरिया व दामोदरपुर पूरवा के 325 परिवारों को राहत पैकेट सोमवार को बांट दी गई व बाढ़ पीड़ितों के लिए पांच नावें लगाई गई है। हृदयपुर के 713 परिवारों के लिए राहत पैकेट सोमवार के दी बांट दी गई और दो नावों की ब्यवस्था प्रशासन द्वारा की गई। बहुआरा ग्राम पंचायत के 1425 परिवारों को राहत पैकेट सोमवार को बांट दी गई, साथ 12 नावों की व्यवस्था की गई है। शिवपुर कपूर दियर पंचायत के 2460 परिवारों के लिए राहत पैकेट लेखपाल को उपलब्ध करा दी गई है, जिसे तत्काल वितरित कर दी जाएगी, वहां 24 नावों की व्यवस्था प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराया गया है। साथ ही दलकी नंबर एक के बाढ़ पीड़ितों के लिए 127 बाढ़ पीड़ितों का राहत पैकेट लेखपाल को उपलब्ध करा दिया गया है और वहां पर एक नाव की व्यवस्था प्रशासन द्वारा कर दी गई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.