top menutop menutop menu

फर्जी गुरुजनों को दबोचने मीरजापुर से पहुंची टीम, हड़कंप

जागरण संवाददाता, बिल्थरारोड (बलिया) : फर्जी शैक्षणिक दस्तावेज के आधार पर 2014 से नौकरी कर रहे शिक्षकों को पकड़ने के लिए शनिवार को मीरजापुर से क्राइम ब्रांच की टीम पहुंची। क्राइम ब्रांच की टीम पहुंचने की सूचना से फर्जी नामजद अभ्यर्थियों में हड़कंप मच गया। टीम के प्रभारी श्याम बिहारी के नेतृत्व में उभांव इंस्पेक्टर योगेंद्र बहादुर सिंह संग उभांव थाना पुलिस ने क्षेत्र में जमकर छापेमारी की। हालांकि देर शाम तक पुलिस को कोई खास सफलता हाथ नहीं लगी।

प्रभारी श्याम बिहारी ने बताया कि बलिया जनपद के विभिन्न थाना क्षेत्र के सात नामजद अभ्यर्थी है। इनकी गिरफ्तारी होने तक क्राइम ब्रांच की टीम बलिया में ही रहेगी। बताया कि राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में रिक्त सहायक अध्यापक/अध्यापिकाओं के पदों पर भर्ती वर्ष 2014 में हुई थी। अभ्यर्थियों के शैक्षिक अभिलेखों के सत्यापन में पुरुष 119 व महिला शाखा में 88 समेत कुल 207 फर्जी अभ्यर्थी पाए गए हैं जिनके खिलाफ विध्यांचल मंडल मिर्जापुर की संयुक्त शिक्षा निदेशक माया निरंजन के निर्देश पर मिर्जापुर शहर कोतवाली में 27 मार्च 2016 को नामजद मुकदमा दर्ज किया गया है। इस क्रम में 17 जून से फर्जी अभियुक्त गुरुजनों की गिरफ्तारी हेतु अभियान चलाया जा रहा है। अब तक वाराणसी में शशिकलां व रंजू कुमारी तथा कौशाम्बी से शब्बीर सिंह समेत तीन आरोपितों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

बलिया जनपद के जयरानी पुत्री ललन राजभर थाना नगरा निवासी, पुष्पा आर्या पुत्री मुन्नर राम थाना बांसडीहरोड, सतीश कुमार पुत्र श्यामदेव ग्राम टंगुनिया उभांव, राकेश कुमार पुत्र जिउत प्रसाद ग्राम रतसर गड़वार, विवेक कुमार राव पुत्र कृष्णा राव ग्राम पिपराकलां खेजुरी, सतीश चौहान पुत्र रामलोचन ग्राम हरसेनपुर नगरा एवं आदित्य सक्सेना पुत्र किशुन ग्राम लहसनी थाना नगरा निवासी समेत सात नामजद अभियुक्तों की तलाश की जा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.