गैंगस्टर अधिनियम में वांछित दो भाई गिरफ्तार

पुलिस ने गैंगस्टर अधिनियम में वांछित चल रहे दो सगे भाइयों को गिरफ्तार कर लिया।

JagranSat, 12 Jun 2021 10:26 PM (IST)
गैंगस्टर अधिनियम में वांछित दो भाई गिरफ्तार

बागपत, जेएनएन। पुलिस ने गैंगस्टर अधिनियम में वांछित चल रहे दो सगे भाइयों को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों पांच माह पहले शहर में व्यापारी प्रवीण कुमार जैन के अपहरण और एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगने की घटना में शामिल रहे थे। इस घटना से लखनऊ तक हड़कंप मच गया था। कुछ ही देर बाद पुलिस ने व्यापारी को सकुशल बरामद कर सात आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था।

आरोपितों में जौहड़ी गांव के रहने वाले अमित और उसका भाई सतेंद्र भी शामिल थे। पुलिस ने दोनों भाइयों पर गैंगस्टर अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। कोतवाल अजय कुमार शर्मा ने बताया कि अमित और उसके भाई सतेंद्र को बड़ौत से बस स्टैंड से गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया है। आरोपित अभिषेक जैन, गौरव जैन समेत पांच आरोपित गैंगस्टर अधिनियम में फरार चल रहे हैं। ये पांचों भी अपहरण में शामिल रहे थे। मुख्य आरोपित अभिषेक और गौरव हैं। काल कर युवक के खाते से उड़ाए 60 हजार

साइबर चोरों ने फोन काल पर बातों में उलझाकर औरंगाबाद मोहल्ला के युवक के खाते से हजारों की नकदी उड़ा दी।

औरंगाबाद मोहल्ला निवासी सन्नी पुत्र सत्यवीर सिंह ने बताया कि शुक्रवार दोपहर उसके फोन पर अज्ञात नंबर से काल आई। कालर ने खुद को बैंक कर्मचारी बताकर एटीएम ब्लाक होने की जानकारी दी। उसने एटीएम नहीं होना बताया कि कालर ने किसी दूसरे टापिक पर बातों में उलझा लिया। इस बीच आए ओटीपी की जानकारी ली। कुछ देर बाद उसके फोन पर खाते से 60 हजार रुपये निकलने का मैसेज आया। आनन फानन में बैंक पहुंचा तो आनलाइन ट्रांजेक्शन होना बताया गया। पीड़ित ने तुरंत ही कोतवाली पुलिस से शिकायत कर साइबर सेल में चोरों के खिलाफ तहरीर देकर मदद की गुहार लगाई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.