घटतौली के बाद रमाला मिल में प्रधान प्रबंधक को बंधक बनाया

सहकारी चीनी मिल रमाला में गन्ने लेकर मिल में पहुंचे किसानों ने मिल गेट पर घटतौली मिलने पर हंगामा कर दिया। सभी कांटों की तौल बंद कराकर नारेबाजी शुरू कर दी। चार घंटे बाद किसानों के बीच पहुंचे प्रधान प्रबंधक को किसानों ने बंधक बना लिया। हंगामा बढ़ता देख पुलिस को मौके पर बुला लिया।

JagranFri, 24 Jan 2020 12:25 AM (IST)
घटतौली के बाद रमाला मिल में प्रधान प्रबंधक को बंधक बनाया

बागपत, जेएनएन। सहकारी चीनी मिल रमाला में गन्ने लेकर मिल में पहुंचे किसानों ने मिल गेट पर घटतौली मिलने पर हंगामा कर दिया। सभी कांटों की तौल बंद कराकर नारेबाजी शुरू कर दी। चार घंटे बाद किसानों के बीच पहुंचे प्रधान प्रबंधक को किसानों ने बंधक बना लिया। हंगामा बढ़ता देख पुलिस को मौके पर बुला लिया। उधर, गन्ना आपूर्ति न होने पर मिल नो केन हो गई। कई घंटे गहमागहमी के बाद किसानों के प्रतिनिधिमंडल व मिल अधिकारियों के बीच बैठक हुई, जिसमें निर्णय लिया कि मिल अधिकारियों की एक टीम किसानों की मौजूदगी में 24 घंटे में दो बार प्रतिदिन कांटा चैक करेगी। घटतौली मिली तो उसकी भरपाई मिल प्रशासन करेगा। उसके बाद कांटा ठीक कराकर तौल शुरू कराई गई। गुरुवार सुबह किरठल गांव निवासी गुलाब सिंह धर्म कांटे पर बुग्गी तौलकर सहकारी चीनी मिल में पहुंचा। गुलाब सिंह ने बताया कि मिल कांटे पर बुग्गी तौली तो 1.35 कुंतल की घटतौली मिली। उसने यह बात दूसरे किसानों को बताई तो वहां किसानों की भीड़ एकत्र हो गई। बुग्गी को कांटा नंबर चार पर तौला गया तो वहां 80 किलो की घटतौली मिली। यह देख किसान भड़क गए और उन्होंने हंगामा करते हुए नारेबाजी शुरु कर दी। किसानों ने तौल कार्य बंद करा दिया।

किसान मौके पर प्रधान प्रबंधक को बुलाने की मांग करने लगे। लगभग नौ बजे प्रधान प्रबंधक आरबी राम किसानों के बीच पहुंचे और किसानों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन किसानों ने प्रबंधक को खरी खोटी सुनाते हुए बंधक बना लिया। किसानों ने आरोप लगाया कि मिल प्रबंधन की सांठगांठ से घटतौली हो रही है। मिल प्रबंधन रिकवरी बढ़ाकर झूठी वाहवाही लूट रहा है और उच्च अधिकारियों को गुमराह कर रहा है। किसानों ने कहा कि घटतौली की पोल खुलने पर रिकवरी बढ़ने का सच सामने आ गया है। हंगामा बढ़ता देख मिल अधिकारियों ने पुलिस को मौके पर बुलाया। पुलिस ने प्रधान प्रबंधक को किसानों के बीच से बाहर निकाला। इसी दौरान सुबह लगभग दस बजे चीनी मिल नो केन होकर बंद हो गई।

उधर, पुलिस ने भी किसानों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन किसान घटतौली की भरपाई की मांग पर अड़ गए। दोपहर लगभग 12 बजे किसानों का प्रतिनिधिमंडल व मिल अधिकारियों के बीच बैठक हुई, जिसमें मिल अधिकारियों की एक टीम के गठन का निर्णय हुआ। यह टीम चीफ इंजीनियर की अध्यक्षता में हर रोज 24 घंटे में दो बार किसानों की देखरेख में कांटे चैक करेगी। इस निर्णय को किसानों के बीच रखा गया, तब किसान शांत हुए। लगभग दो बजे तौल शुरू कराई गई और उसके बाद ही चीनी मिल में पेराई शुरू हो सकी। उधर, वरिष्ठ उप प्रबंधक जीके फोरदार ने बताया कि मिल गेट का पांच नंबर कांटा पहले से ही खराब था, उस पर किसानों ने जबरन तौल कराई थी, जिसके बाद घटतौली सामने आई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.