एक पक्ष का मुकदमा तो दूसरे की एनसीआर दर्ज

एक पक्ष का मुकदमा तो दूसरे की एनसीआर दर्ज

ग्राम नौरोजपुर गुर्जर में हुए संघर्ष के मामले में पुलिस ने एक पक्ष का तो मुकदमा दर्ज कर लिया जबकि दूसरे की एनसीआर दर्ज की है।

Publish Date:Fri, 27 Nov 2020 11:50 PM (IST) Author: Jagran

बागपत, जेएनएन। ग्राम नौरोजपुर गुर्जर में हुए संघर्ष के मामले में पुलिस ने एक पक्ष का तो मुकदमा दर्ज कर लिया, जबकि दूसरी पक्ष की सिर्फ एनसीआर ही दर्ज की। इसकी शिकायत पीड़ित महिला ने पुलिस अफसरों से की।

गांव के पड़ोसी अधिवक्ता अमरपाल सिंह पक्ष और सलीम पक्ष के बीच गुरुवार शाम मामूली विवाद पर संघर्ष हुआ था। धारदार हथियार से प्रहार, पथराव व फायरिग करने का आरोप लगाते हुए पुलिस से शिकायत की गई थी। घायलों का अस्पताल में मेडिकल कराया गया था। अधिवक्ता अमरपाल के भाई नीटू की तहरीर पर पुलिस ने सलीम, शेरखान, विनोद और अनिल के खिलाफ जानलेवा हमले की धारा में मुकदमा दर्ज किया। वहीं सलीम की तहरीर पर पुलिस ने अधिवक्ता अमरपाल, नीटू व भोला के खिलाफ सिर्फ एनसीआर दर्ज की। इसका पता चलने पर सलीम की पत्नी जुबैदा अपनी बेटी के साथ शुक्रवार को बागपत पहुंची। उसने एसपी अभिषेक सिंह और एएसपी मनीष कुमार मिश्र से शिकायत की।

उधर, एएसपी मनीष कुमार मिश्र का कहना है कि शिकायतों के आधार पर मुकदमा और एनसीआर दर्ज की गई है। कोतवाली पुलिस को निर्देशित किया गया कि मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाए। वहीं कोतवाली एसएसआइ प्रदीप कुमार शर्मा का कहना है कि तहरीर के आधार ही कार्रवाई की गई है। पुलिस पर लगाए गए आरोप गलत है।

ताऊ के हत्यारोपित पर 25 हजार रुपये का इनाम

पुलिस दे रही गिरफ्तारी को ताबड़तोड़ दबिशें

संवाद सूत्र, चांदीनगर : पांची में जमीनी विवाद में किसान की हत्या में फरार आरोपित भतीजे पर पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है। आरोपित की गिरफ्तारी को पुलिस दबिश दे रही है, लेकिन नतीजा सिफर है।

21 अक्टूबर की सुबह जमीनी विवाद में किसान इनामुलहक की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। बेटे ने चचेरे पांच भाई व चाची के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था। दो आरोपित घटना के दिन ही पुलिस ने धर दबोचे थे। महिला समेत दो अन्य आरोपितों को कुछ दिन बाद पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। एक आरोपित आज भी फरार चल रहा है। एसपी ने हत्यारोपित पर 25 हजार रुपयों का ईनाम घोषित किया है। पुलिस ने आरोपित की गिरफ्तारी को कई स्थान पर दबिशें दीं, लेकिन नतीजा सिफर है। एसओ मुनेशपाल का कहना है कि जल्द ही आरोपित गिरफ्तार किया जाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.