top menutop menutop menu

बड़ौत में पूर्वी यमुना नहर की पटरी अब डामर से बनेगी

बागपत, जेएनएन। शहर में पूर्वी यमुना नहर की एक ओर की पटरी अब सीसी रोड नहीं, बल्कि डामर से बनाई जाएगी। कोताना पुल का जीर्णोद्धार भी होगा। दोनों के निर्माण में साढ़े तीन करोड़ रुपये की लागत आएगी। उधर, खेड़ा इस्लामपुर गांव में यमुना किनारे नौ करोड़ रुपये की लागत से 13 ठोकरें बनवाई जाएंगी। दोनों बन जाने से दिल्ली-सहारनपुर हाईवे से छपरौली रोड तक जाने का रास्ता सुलभ हो जाएगा और कोताना पुल पर जाम की समस्या से भी छुटकारा मिल जाएगा।

सिचाई विभाग बड़ौत खंड के अधिशासी अभियंता संजीव चौधरी ने बताया कि पूर्वी यमुना नहर की एक पटरी पहले से बनी हुई है। पिछले साल दूसरी ओर की पटरी का निर्माण और कोताना पुल का जीर्णोद्धार करने का प्रस्ताव विभाग को भेजा था, जिनमें लगभग साढ़े चार करोड़ रुपये का बजट बनाया गया था, लेकिन विभाग ने सीसी रोड से पटरी बनाने का प्रस्ताव निरस्त कर दिया है। उसके बाद अब इस पटरी को डामर से तैयार करने का प्रस्ताव भेजा है। पटरी की लंबाई लगभग दो किमी और चौड़ाई साढ़े तीन मीटर होगी। कोताना पुल की चौड़ाई साढ़े चार मीटर की जाएगी। खेड़ा इस्लमापुर में अब

नहीं होगा कटान

अधिशासी अभियंता ने बताया कि खेड़ा इस्लामपुर गांव में यमुना किनारे नौ करोड़ रुपये की लागत से 14 ठोकरें बनाई जाएंगी। इससे बरसात के दिनों में यमुना नदी कटान नहीं कर पाएगी।

एक प्रस्ताव यह भी

अधिशासी अभियंता ने बताया कि सीनियर सिटीजन की ओर से प्रस्ताव दिया गया है कि शहर में कैनाल रोड में बड़े पाइप डालकर ऊपर इंटरलॉकिग करा दी जाए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.