परीक्षा निरस्त के बाद भड़के अभिभावक, किया प्रदर्शन

परीक्षा समाप्त हुई तो परीक्षा केंद्र से बाहर निकलते ही अभ्यर्थियों का माथा ठनक गया। नाराजगी जताते हुए उन्होंने प्रदर्शन किया।

JagranPublish:Sun, 28 Nov 2021 08:29 PM (IST) Updated:Sun, 28 Nov 2021 08:29 PM (IST)
परीक्षा निरस्त के बाद भड़के अभिभावक, किया प्रदर्शन
परीक्षा निरस्त के बाद भड़के अभिभावक, किया प्रदर्शन

बागपत, जेएनएन। परीक्षा समाप्त हुई तो परीक्षा केंद्र से बाहर निकलते ही अभ्यर्थियों का माथा ठनक गया। उन्होंने नाराजगी जताते हुए प्रदर्शन किया।

दिगंबर जैन कालेज में परीक्षा देकर आए हिमांशु, उमा और विकास ने बताया कि पहले कोरोना की वजह से परीक्षा नहीं हो रही थी और अब हुई तो निरस्त होने से झटका लगा है। वहीं परीक्षा निरस्त होने से क्षुब्ध अभिभावकों ने बिजरौल रोड पर सड़क पर खड़े होकर प्रदर्शन किया। एसडीएम सुभाष सिंह और सीओ हरीश सिंह भदौरिया पहुंचे थे। वहीं दिगंबर जैन कालेज में डा. राजीव कुमार, अमित कुमार, संदीप कुमार आदि अध्यापक प्राचार्य डाक्टर वीरेंद्र सिंह से मिले और ड्यूटी का पारिश्रमिक देने की मांग की।

बागपत के साल्वर गिरोह की जड़ें है बहुत गहरी

जागरण संवाददाता,बागपत : टीईटी पेपर आउट होने के मामले में बागपत के किसी साल्वर का नाम सामने नहीं आया, लेकिन पूर्व में बागपत में साल्वर गैंग की जड़ें गहरी रही हैं। वहीं एसटीएफ के बागपत में डेरा डालने की चर्चा रही। हालांकि पुलिस अफसरों ने इससे इंकार किया।

तीन साल पूर्व एसटीएफ ने टीईटी की परीक्षा देते हुए कस्बा बड़ौत व खेकड़ा के दो कालेजों से दो साल्वर पकड़े थे। दो साल पहले तक यूपी पुलिस, लेखपाल, ग्राम विकास अधिकारी और ग्राम पंचायत अधिकारी आदि भर्ती में बागपत के साल्वर सेंधमारी कर चुके हैं। बड़ौत कोतवाली क्षेत्र के एक पूर्व जनप्रतिनिधि को दिल्ली पुलिस ने पेपर लीक के मामले में गिरफ्तार किया था।

सरगना अरविद राणा का

था बड़ौत में कोचिग सेंटर

नकल माफिया के नाम से चर्चित अरविद राणा गांव बझेड़ी, (शामली) है। उसका बड़ौत में कोचिग सेंटर सेंटर था। उसने अपने गैंग में यूपी के विभिन्न जनपद व दूसरे राज्यों के साल्वर शामिल किए थे। जनवरी 2020 में एसटीएफ ने उसे गिरफ्तार किया था। यह गिरोह 2018 में यूपी पुलिस सिपाही भर्ती परीक्षा का पेपर आउट करने में शामिल रहा था।

पेपर साल्वरों की गिरफ्तारी

में लगी एसटीएफ : एसपी

एसपी नीरज कुमार जादौन का कहना है कि पेपर साल्वरों की गिरफ्तार करने में एसटीएफ लगी है। अभी बागपत के किसी साल्वर का नाम प्रकाश में नहीं आया है, न ही यहां पर एसटीएफ आई है। यदि जांच में यहां के साल्वर प्रकाश में आते हैं तो अवश्य कार्रवाई होगी।