मृतकों का वैक्सीनेशन कर रहा स्वास्थ्य विभाग, स्वास्थ्य विभाग तकनीकी चूक बता रहा, स्वजन में दिखा रोष

कोरोना से बचाव के लिए अधिक से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन कराया जा रहा है। शहर से लेकर गांव तक इससे राहत मिली है लेकिन वैक्सीनेशन में आंकड़ेबाजी का खेल भी किया जा रहा है। आवास विकास निवासी युवक को छह अप्रैल को कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज लगी थी। कुछ दिनों बाद वह कोरोना संक्रमित हो गए और 21 अप्रैल को उनकी मृत्यु हो गई।

JagranMon, 27 Sep 2021 12:52 AM (IST)
मृतकों का वैक्सीनेशन कर रहा स्वास्थ्य विभाग, स्वास्थ्य विभाग तकनीकी चूक बता रहा, स्वजन में दिखा रोष

जेएनएन, बदायूं: कोरोना से बचाव के लिए अधिक से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन कराया जा रहा है। शहर से लेकर गांव तक इससे राहत मिली है, लेकिन वैक्सीनेशन में आंकड़ेबाजी का खेल भी किया जा रहा है। आवास विकास निवासी युवक को छह अप्रैल को कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज लगी थी। कुछ दिनों बाद वह कोरोना संक्रमित हो गए और 21 अप्रैल को उनकी मृत्यु हो गई। 25 सितंबर की रात मोबाइल पर वैक्सीन की दूसरी डोज दिए जाने का मैसेज आया तो स्वजन की चौंक गए। सीएचसी उसावां में दूसरी डोज लगाए जाने का उल्लेख किया गया। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि तकनीकी कारणों से ऐसा हुआ है, इसमें किसी की कोई गलती नहीं है।

उसहैत के मूल निवासी गोविद भारद्वाज का परिवार इस समय शहर के आवास विकास कालोनी में रहता है। कोरोना से बचाव के लिए उन्होंने छह अप्रैल को कोविशील्ड की पहली डोज लगवा ली थी, जिसका बैच नंबर 4121जेड037 था। कुछ दिनों बाद उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया, जांच कराई गई तो कोरोना संक्रमित मिले थे। राजकीय मेडिकल कालेज में उनका इलाज हुआ था, हालत गंभीर होने पर बरेली रेफर किया गया था जहां उनकी मृत्यु हो गई थी। 25 सितंबर को उनके मोबाइल पर मैसेज पहुंचा कि उसावां सीएचसी पर उन्हें वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई गई है। उनके पुत्र गौरव भारद्वाज ने जब वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट लाउनलोड किया तो उसमें वैक्सीन का बैच नंबर 4121एए020एम है। टीका लगाने वाले का नाम गीता देवी लिखा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों तक यह शिकायत पहुंची तो खलबली गच गई। टीकाकरण के नोडल अधिकारी डा.मोहम्मद असलम का कहना है कि यह शिकायत जब उनके पास आई तो उसावां सीएचसी के चिकित्सा अधीक्षक से जानकारी ली थी। उनका कहना है कि परिवार के चार लोग वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने पहुंचे थे। तकनीकी कारणों से चूकवश गोविद भारद्वाज का नंबर भी क्लिक हो गया है, जान बूझकर किसी ने कुछ नहीं किया। जबकि गोविद भारद्वाज के पुत्र गौरव व अंशू भारद्वाज का कहना है कि उनके परिवार का कोई वैक्सीन लगवाने गया ही नहीं था।

मुख्य चिकित्साधिकारी डा. विक्रम सिंह पुंडीर ने बताया कि उसावां सीएचसी पर मृतक गोविद भारद्वाज को वैक्सीन की दूसरी डोज लगाए जाने का मैसेज उनके मोबाइल पर पहुंचने की शिकायत मिली है। मामले की जांच करा रहे हैं, किस स्तर पर चूक हुई है यह जांच के बाद ही सामने आ सकेगा। प्रारंभिक जांच में तकनीकी कारण बताई जा रही है।

टीकाकरण की स्थिति

जिले में अब तक 11,6,775 को लगी प्रथम डोज

जिले में अब तक 1,90,904 को लगी दूसरी डोज

जिले में अब तक 12,97,669 डोज लगाई जा चुकी

अब तक पुरुषों को हुआ टीकाकरण - 7,08,512

अब तक महिलाओं को हुआ टीकाकरण - 5,89,157

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.