बदायूं में पूर्व पेट्रोल पंप कर्मी ने रची थी लूट की साजिश, तीन पकडे़

बिल्सी थाना के गांव पिडोल में चार दिन पूर्व पेट्रोल पंप कर्मचारी से हुई लूट की साजिश पूर्व कर्मी ने रची थी। शुक्रवार को एसएसपी डा. ओपी सिंह ने लूट का राजफाश करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लूट करने वालों बदमाशों के खिलाफ गैंगेस्टर की कार्रवाई कर उनकी संपत्ति जब्त की जाएगी।

JagranPublish:Sat, 04 Dec 2021 12:58 AM (IST) Updated:Sat, 04 Dec 2021 12:58 AM (IST)
बदायूं में पूर्व पेट्रोल पंप कर्मी ने रची थी लूट की साजिश, तीन पकडे़
बदायूं में पूर्व पेट्रोल पंप कर्मी ने रची थी लूट की साजिश, तीन पकडे़

बदायूं/बिल्सी, जेएनएन : बिल्सी थाना के गांव पिडोल में चार दिन पूर्व पेट्रोल पंप कर्मचारी से हुई लूट की साजिश पूर्व कर्मी ने रची थी। शुक्रवार को एसएसपी डा. ओपी सिंह ने लूट का राजफाश करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लूट करने वालों बदमाशों के खिलाफ गैंगेस्टर की कार्रवाई कर उनकी संपत्ति जब्त की जाएगी। पुलिस ने तीन आरोपितों को जेल भेज दिया है। दो मुख्य आरोपित अभी तक फरार हैं।

बिल्सी थाना क्षेत्र के नरैली चौराहे के पास देव फिलिग स्टेशन के कर्मचारी रामखिलाड़ी और राजपाल दो लाख रुपये मंगलवार दोपहर बैंक में जमा करने जा रहे थे। इस्लामनगर-बिल्सी मार्ग पर गांव पिडौल की पुलिया के पास एक बाइक पर आए तीन बदमाशों ने तमंचा दिखाकर उनसे रुपये लूट लिए। पुलिस ने रामखिलाड़ी के बताए नंबर व बाइक के हुलिए से मदद मिली। पुलिस ने पहले बाइक स्वामी गांव सिरासौली पट्टी कुंवर सहाय निवासी गुड्डू को पकड़ा। पूछताछ में पता चला कि गुड्डू ने अपनी बाइक शानू को दी। फिर पुलिस ने मुजरिया निवासी शानू को पकड़ लिया। उन्होंने बताया कि मुजरिया का धर्मेंद्र देव पंप पर साल भर पहले काम करता था। उसी ने पूरी कहानी रची थी। फिर पुलिस को धर्मेंद्र को भी पकड़ा। अब मुजरिया के हरदो पट्टी निवासी नईम और बिल्सी के बेहटा गुसाई निवासी जफरुद्दीन उर्फ जफर फरार हैं। एसएसपी ने बताया कि इनमें सबसे शातिर फरार आरोपित नईम व जफर हैं। उनके खिलाफ 12 से 14 मुकदमें दर्ज हैं। एसएसपी ने पुलिस टीम को पांच हजार का इनाम देने की बात कही। पुलिस ने आरोपितों के पास से लूट में प्रयुक्त दो बाइक, लूटी रकम में से 1.02 लाख रुपये, दो तमंचा व तीन मोबाइल बरामद किए हैं। लूट से पहले किया डेमो, याद किए रास्ते

लूट में शामिल सभी पांचों आरोपित इतने शातिर हैं कि लूट से पहले उन्होंने वारदात का एक बार डेमो किया। वारदात के बाद भागना कैसे है, जिससे सीसीटीवी में भी न आएं। पुलिस के हाथ भी न लगें। इसके लिए उन्होंने गांव के अंदर के रास्ते चुने थे। इससे की वारदात के बाद बाइक को जगह पर पहुंचा दें। फिर दूसरी बाइकों से निकल जाएं। पूछताछ में आरोपितों ने पूरा घटनाक्रम बताया। जागरण ने पहले कर दिया था राजफाश

लूट की वारदात के अगले दिन ही दैनिक जागरण ने लूट की बाइक बरामद होने और दो आरोपितों के हिरासत में होने की जानकारी दी थी। फिर अगले दिन ही बताया था कि पेट्रोल पंप पर काम कर चुके युवक की जानकारी पर लूट की गई। इसके साथ ही तीन लोगों की गिरफ्तारी व शुक्रवार को राजफाश होने की बात भी बताई थी। वर्जन

लूट के तीन आरोपितों को जेल भेज दिया है। उनकी संपत्ति को जब्त को जब्त किया जाएगा। जल्द ही दो अन्य आरोपितों को भी गिरफ्तार किया जाएगा। - डा. ओपी सिंह, एसएसपी