कच्चे मकानों पर मौसम का कहर, तीन की मौत

प्राकृतिक आपदा - तीन दिनों से हो रही बारिश की मार गरीबों पर जमकर पड़ी - पशुशाल

JagranFri, 17 Sep 2021 05:44 PM (IST)
कच्चे मकानों पर मौसम का कहर, तीन की मौत

प्राकृतिक आपदा

- तीन दिनों से हो रही बारिश की मार गरीबों पर जमकर पड़ी

- पशुशाला जमींदोज होने से गरीब की पांच बकरियां मरीं

-बारिश के दौरान गिरते रहे आशियाने, मची रही चीख-पुकार जागरण टीम, आजमगढ़ : तीन दिनों से हो रही बारिश की मार शुक्रवार को गरीबों पर जमकर पड़ी है। आधा दर्जन से ज्यादा कच्चे मकान जमींदोज होने से तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि घायल हुए कई लोगों को निकट के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इलाकाई पुलिस शवों को कब्जे में लेकर विधिक कार्यवाही में जुट गई है। मकान गिरने के एक अन्य हादसे में पांच बकरियां दबकर मर गईं।

बलरामपुर : शहर कोतवाली क्षेत्र के हरैया गांव निवासी पप्पू अपने छह वर्षीय पुत्री चांदनी के साथ टिनशेड में सोए थे। जिसके चारों तरफ मिट्टी की दीवार बनी थी, जो तेज बारिश के कारण भोर में गिरी तो पिता-पुत्री मलबे में दब गए। दोनों को मलबे से निकालकर जिला अस्पातल में भर्ती कराए, जहां चांदनी की मौत हो गई। मृतक एक भाई और दो बहन में छोटी थी। जहानागंज : थाना क्षेत्र के गोधौरा गांव निवासी सुफेल पुत्र इद्रीश प्रतिदिन की तरह रात को अपने कच्चे मकान में सोए थे। बारिश के चलते मकान गिरा तो मलबे दब गए। सुबह दबे इद्रीश को बाहर निकाला तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। उनकी सांसे थमते ही परिवार में कोहराम मच गया। अतरौलिया : थाना क्षेत्र के परेमश्वरपुर गांव निवासी मोती लाल पुत्र सम्हारू प्रतिदिन की तरह रात को भोजन करने के बाद सोने चल गए। भोर में बारिश के कारण दीवार गिर गई, जिसके मलबे में दब गये। उन्हें बाहर निकाला गया तो मौत हो चुकी थीं।

रानी की सराय : उची गोदाम निवासी छोटू पुत्र प्रसाद, कुमारी इत्यादि मकान में टिनशेड डालकर गुजर बसर करते थे। बारिश के चलते उनका मकान गिरा तो दोनों घायल हो गए। सरायमीर : कौरा गहनी गांव निवासी मोहम्मद यासीर पुत्र शफीउद्दीन का कच्चा मकान धराशायी हुआ, जिसमें करीब 50 हजार की गृहस्थी नष्ट हो गई। तहसीलदार हेमंत कुमार बिद और लेखपाल अजय कुमार गुप्ता ने नुकसान का आकलन किया। महराजगंज : मोतीपुर गांव निवासी रामप्यारे यादव पुत्र छांगुर, बब्लू पुत्र राजू रात को कच्चे मकान में बैठे थे। उसी दौरान तेज बारिश के कारण मकान धराशायी हुआ तो दोनों मलबे में दब कर घायल हो गये। लेखपाल ने में नुकसान का आंकलन कर रिपोर्ट आपदा राहत सहायता को भेज दिया। बिलरियागंज : मैगापुर गांव निवासी लालजी पुत्र मुखई अपने कच्चे मकान में बारिश से बचाव के लिए पांच बकरियां को बांधी थीं। मकान धराशाई हुआ तो मलबे में दबकर पांचों बकरियों की मौत हो गई।

---

आकाशीय बिजली से पशुशाला धराशायी

जागरण संवाददाता, जहानागंज (आजमगढ़): थाना क्षेत्र के बरहतिर जगदीशपुर गांव निवासी शिवराम राय ने पालतू जानवरों के लिए पशुशाला बनाया था। शुक्रवार को तेज बारिश के चलते पशुशाला पर आकाशीय बिजली गिरी तो मकान ही ध्वस्त हो गया। उसमें बंधे जानवर गाय और बछिया मलबे में दब गए, हालांकि, कुछ भी नुकसान नहीं हुआ।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.