top menutop menutop menu

कपड़ा व्यापारी की हत्या के विरोध में चक्काजाम, प्रदर्शन

जागरण संवाददाता, मार्टीनगंज (आजमगढ़) : कपड़ा व्यवसायी की हत्या के विरोध में व्यापारियों ने मार्टीनगंज बाजार में शुक्रवार की सुबह चक्का जाम कर प्रदर्शन किया। विरोध में मार्टीनगंज बाजार की दुकानें व क्षेत्र के अधिकांश स्कूल भी बंद रहे। मृत व्यापारी के भाई की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया। जौनपुर के सराय ख्वाजा अंतर्गत जमुनीपुर विसंभर गांव निवासी कपड़ा कारोबारी नरेंद्र यादव का शव गुरुवार को बरदह क्षेत्र के बेसो नदी के पुल पर पड़ा मिला था। एसपी प्रोफेसर प्रवीण सिंह एवं एसपी सिटी पंकज पांडेय मौके पर पहुंचे थे।

शुक्रवार की सुबह हुआ तो व्यापारियों का आक्रोश देखने को मिला। व्यापारियों ने मार्टीनगंज बाजार में चक्का जाम कर प्रदर्शन किया। आंदोलनकारी हत्या का खुलासा व बदमाशों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। विरोध में सुबह से ही मार्टीनगंज बाजार की दुकानें पूरे दिन बंद रही। अधिकांश निजी स्कूल भी बंद रहे। चक्का-जाम व प्रदर्शन में मुख्य रूप से व्यापारी अमित कुमार राय, गंगा प्रसाद जायसवाल, सच्चिदानंद सिंह, सुनील यादव, रमेश जायसवाल, अनिल यादव, करिया मोदनवाल, सचिन गुप्त, भानु यादव, सुरेश चौरसिया, बबलू गुप्त समेत अन्य लोग शामिल रहे। एसपी ने घटना का खुलासा करने को तीन टीमें गठित की है।

-------------------------

सिर की हड्डी टूटने से हुई मौत

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौक की वजह सिर की हड्डी टूटने होने की बात सामने आई है। सिर पर चोट के गहरे जख्म मिले। चोट गिरने से हुई या हमले में हुआ कहना मुश्किल है। विशेषज्ञों की मानें तो घटना स्थल व वहां के हालात आदि पर निर्भर करता है मौत का कारण। पुलिस गहराई से जांच करे तो दूध-पानी अलग हो सकता है।

---------------------------

मृदुभाषी थे नरेंद्र बताते छलक आएं आंसू

नरेंद्र की मौत के बाद इलाके में लोगों की नाराजगी उनके व्यवहार को दर्शाती है। इलाके के कॉलेज एवं स्कूल प्रबंधकों में प्रबंधक भानु प्रताप सिंह त्रिभुवन सिंह ओम प्रकाश जयसवाल मनोज विश्वकर्मा ने कहा कि नरेंद्र से कुछ माह का ही संबंध था। लेकिन ऐसा घुले-मिले मानों सालों पुरानी पहचान हो। लोगों के सुख-दुख में सहभागिता करना उनकी आदत में शुमार रहती थी। इतना कहते हुए उनके आंसू छलक आए। इतना ही बोले नरेंद्र यादव की मौत से मार्टीनगंज क्षेत्र की अपूर्णीय क्षति हुई है।

-------------------------

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.