पंडाल व हेलीपैड निर्माण में लगे डेढ़ सौ श्रमिक

सीएम का आगमन - युद्ध स्तर पर चल रहीं मुख्यमंत्री की जनसभा की तैयारियां - सभास्थल को चमकाने मे

JagranPublish:Thu, 02 Dec 2021 06:54 PM (IST) Updated:Thu, 02 Dec 2021 06:54 PM (IST)
पंडाल व हेलीपैड निर्माण में लगे डेढ़ सौ श्रमिक
पंडाल व हेलीपैड निर्माण में लगे डेढ़ सौ श्रमिक

सीएम का आगमन

- युद्ध स्तर पर चल रहीं मुख्यमंत्री की जनसभा की तैयारियां

- सभास्थल को चमकाने में लगे हैं ढाई सौ सफाई कर्मचारी

- पंडाल में विशिष्ट लोगों के लिए लगाई जाएंगी पांच हजार कुर्सियां

जागरण संवाददाता, रौनापार (आजमगढ़): सगड़ी विधानसभा क्षेत्र में प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ के छह दिसंबर की संभावित जनसभा को लेकर प्रशासन युद्ध स्तर पर तैयारियों में जुट गया है। डेढ़ सौ मजदूरों को लगाकर पंडाल और हेलीपैड का निर्माण तेजी से कराया जा रहा है।

सभास्थल और उसके आसपास की जगहों को चमकाने के लिए अजमतगढ़ और हरैया ब्लाक के ढाई सौ सफाई कर्मियों को लगाया गया है। तहसील परिसर में तीन हजार वर्ग मीटर में पंडाल का निर्माण कराया जा रहा है। इस पंडाल में पांच हजार कुर्सियां लगाकर विशिष्ट लोगों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है।

सगड़ी विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छह दिसंबर की जनसभा की सूचना लगते ही जिला प्रशासन जनसभा को शांतिमय ढंग से संपन्न कराने में मंगलवार से ही जुट गया।

एक तरफ जिलाधिकारी राजेश कुमार ने योगी जी की जनसभा के लिए सभा स्थल, हेलीपैड निर्माण, रूट डायवर्जन, पंडाल की मजबूती, बैरिकेडिग की स्थिति सहित अन्य व्यवस्थाओं के लिए मंगलवार को ही स्थलीय निरीक्षण किया, वहीं सुरक्षा व्यवस्था को अभेद्य बनाने के लिए पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने बुधवार को सभा स्थल पहुंचकर मुकम्मल सुरक्षा की जानकारी ली और एसपीआरए सिद्धार्थ और क्षेत्राधिकारी महेंद्र शुक्ला को सुरक्षा की एक-एक बारीकियां समझाते हुए आवश्यक निर्देश दिया।

गुरुवार को तहसीलदार अभिषेक कुमार सिंह ने सभास्थल से एक किलोमीटर की परिधि में कई जगहों पर पार्किंग जोन बनाने के लिए स्थानों निरीक्षण किया। जीयनपुर स्थित महामाया का प्रांगण, सेंट जेवियर स्कूल का प्रांगण,प्रधान महफूज खान के भट्टे का परिसर, शहीद उपवन अंजान शहीद, कुड़वा कोडारी के पास खाली खेतों और सीओ दफ्तर के सामने गाड़ियों की पार्किंग की तैयारी शुरू कर दी। जीयनपुर पुलिस को रूट डायवर्जन की जिम्मेदारी पुलिस अधीक्षक द्वारा सौंपी गई है, लेकिन अभी रूट डायवर्जन की स्थिति तय नहीं हो पाई है। पूरा तहसील प्रशासन तैयारियों में जुटा हुआ है।