top menutop menutop menu

चार अधिकारी अनुपस्थित, कटेगा एक दिन का वेतन

जागरण संवाददाता, मेंहनगर (आजमगढ़) : मंडलायुक्त कनक त्रिपाठी ने मंगलवार को स्थानीय तहसील में संपूर्ण समाधान दिवस पर आमजन की समस्याओं को सुना और 43 में नौ का निस्तारण किया। सहायक अभियंता लघु सिचाई मेंहनगर, सहायक विकास अधिकारी पंचायत, सहायक विकास अधिकारी समाज कल्याण एवं सहायक विकास अधिकारी सहाकारिता की अनुपस्थिति पर नाराजगी जताई और चारों का एक दिन का वेतन काटने का निर्देश दिया।

ग्राम देवरिया के बाबूलाल प्रजापति ने प्रार्थना पत्र दिया कि चरागाह की भूमि पर फर्जी ढंग से इंद्राज कराकर कुछ लोगों ने कब्जा किया है। तहसीलदार ने बताया कि मामले में एफआइआर दर्ज है लेकिन गिरफ्तारी नहीं हुई है। एक और मामले में यह तथ्य प्रकाश में आया कि सरकारी भूमि पर कब्जा करने वालों पर मेंहनगर में एफआइआर दर्ज है लेकिन गिरफ्तारी नहीं हुई है। मंडलायुक्त ने थानाध्यक्ष को निर्देशित किया कि सरकारी जमीन पर कब्जे से संबंधित मामले, एफआइआर के बाद भी गिरफ्तारी न होने और जिस थानाध्यक्ष के कार्यकाल में एफआइआर दर्ज है। उन सबका पूर्ण विवरण दो दिन में उपलब्ध कराएं। धानीपुर रानी निवासी बालचंद्र ने बताया कि चरागाह की भूमि पर कब्जा किया गया है। इस प्रकार के कई मामले हैं। मंडलायुक्त ने निर्देशित किया कि ऐसे मामलों को तत्काल मौके पर जाकर देख लें। यदि अवैध कब्जा है तो एफआइआर दर्ज कराते हुए जमीन को कब्जामुक्त कराएं। एक शिकायतकर्ता ने बताया कि कि पशुचर की जमीन का कई वर्ष पूर्व पट्टा कर दिया गया। इस पर तहसीलदार को निर्देश दिया कि यदि शिकायत सही है तो पट्टा निरस्त करते हुए पट्टा करने वाले तत्कालीन अधिकारियों एवं कर्मचारियों के विरुद्ध चार्जशीट भी निर्गत करें। ग्राम मियांपुर वासदेवा के अरविद सिंह एवं राम निवास ने प्रार्थना पत्र देकर बताया कि एक व्यक्ति की खतौनी में रकबा काफी बढ़ा दिया गया है जिससे कई गंभीर समस्याएं उत्पन्न हो गई हैं। इस पर मंडलायुक्त ने सारे दस्तावेज मंगाकर देखा और प्रथम ²ष्टया रकबा काफी बढ़ाकर अंकित होना पाया। इस मामले में भी उन्होंने तत्कालीन एसडीएम सहित प्रकरण से संबंधित सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के विरुद्ध चार्जशीट निर्गत करने का निर्देश दिया। संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा, एडी बेसिक राजेश कुमार आर्य, संयुक्त कृषि निदेशक एसके सिंह, उप निदेशक पंचायत राम जियावन, तहसीलदार बृजेंद्र उपाध्याय थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.