उपभोक्ता धैर्य रखें, एक सप्ताह लग सकता है

= बिजली - अतिवृष्टि के बाद से बेपटरी हुई विद्युत आपूर्ति - 220 केवी पारेषण उपकेंद्र की क

JagranThu, 23 Sep 2021 04:39 PM (IST)
उपभोक्ता धैर्य रखें, एक सप्ताह लग सकता है

= बिजली

- अतिवृष्टि के बाद से बेपटरी हुई विद्युत आपूर्ति

- 220 केवी पारेषण उपकेंद्र की कई मशीनें खराब

जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : अतिवृष्टि के बाद से बेपटरी हुई विद्युत आपूर्ति अभी तक सामान्य नहीं हो सकी है। खासतौर से 220 केवी पारेषण उपकेंद्र से दी जाने वाली आपूर्ति प्रभावित हुई है। आधा शहर को यहीं से बिजली दी जाती है। कारण कि एक सप्ताह पहले उपकेंद्र में पानी भरने से मशीनें डूबीं तो उसमें कई खराब हो गईं। कहीं उपभोक्ताओें की नाराजगी न झेलनी पड़े, इससे बचने के लिए विभाग की ओर से लगातार अपील जारी की जा रही है।

सबसे ज्यादा प्रभावित भंवरनाथ और बदरका फीडर के अवर अभियंता अकबर अली ने उपभोक्ताओं के नाम जारी अपील में कहा है कि प्राकृतिक आपदा से जनपद में विद्युत नेटवर्क और मशीनों को काफी क्षति हुई है। हाफिजपुर पारेषण उपकेंद्र की कुछ मशीनें खराब हो गई हैं। वैकल्पिक रूप से विद्युत आपूर्ति की जा रही है। खराब मशीनों की मरम्मत कार्य भी जारी है। पूर्व की भांति मशीनों को सामान्य होने में एक सप्ताह का समय लग सकता है। धैर्य रखें और जब भी बिजली आपूर्ति हो, तो बिजली से होने वाले अति आवश्यक कार्य पहले कर लें। विद्युत आपूर्ति से संबंधित किसी भी शिकायत या सुझाव के लिए टोल फ्री नंबर 1912 पर काल करें।

उधर इस समय हालत यह कि इन क्षेत्रों में आपूर्ति का कोई निर्धारित समय न होने से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। कभी-कभी तो इतनी कटौती हो रही है कि इन्वर्टर तक डिस्चार्ज हो जा रहे हैं। खुद का घर हो तो कोई अपने अनुसार पानी के लिए मोटर चला ले, लेकिन उनके लिए समस्या गंभीर है जो किराए के मकान में रहते हैं।

अनियमित बिजली कटौती से ग्रामीण त्रस्त

जागरण संवाददाता, बिलारमऊ (आजमगढ़) : फूलपुर तहसील के बरईपुर पावर हाउस से की जाने वाली बिजली की सप्लाई से दर्जनों गांवों के उपभोक्ता परेशान हैं।उपभोक्ताओं का कहना है कि पहले फूलपुर पावर हाउस से बिजली की सप्लाई की जा रही थी, तब समस्या नहीं थी। एक महीने में दर्जनों गांवों की बिजली की सप्लाई बरईपुर पावर हाउस से कर दी गई है, तबसे उपभोक्ता परेशान हो रहे हैं। सुबह से शाम तक बिजली कितनी बार कटेगी, इसका कोई समय निर्धारित नहीं है। जनसेवा केंद्र, व्यापारी, आटा चक्की, बैंक, वेल्डिग करने वाले आदि कटौती से परेशान हैं। मनोज जायसवाल, गुड्डू चौरसिया, राहुल, जयहिद, गुरु प्रसाद, अशरफ, शरीफ, पन्ना जायसवाल आदि ने विभाग का ध्यान आकृष्ट कराया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.