सीएमओ कार्यालय में डाक्टर सहित 35 कर्मचारी मिले गैरहाजिर

- निरीक्षण -मंडलायुक्त ने स्पष्टीकरण तलब किया वेतन काटने के दिए निर्देश -संतोषजनक जवाब न

JagranPublish:Wed, 08 Dec 2021 08:31 PM (IST) Updated:Wed, 08 Dec 2021 08:31 PM (IST)
सीएमओ कार्यालय में डाक्टर सहित 35 कर्मचारी मिले गैरहाजिर
सीएमओ कार्यालय में डाक्टर सहित 35 कर्मचारी मिले गैरहाजिर

- निरीक्षण

-मंडलायुक्त ने स्पष्टीकरण तलब किया, वेतन काटने के दिए निर्देश

-संतोषजनक जवाब न मिलने पर वेतन आहरण की अनुमति नहीं

जागरण संवाददाता, बलरामपुर(आजमगढ़): कमिश्नर विजय विश्वास पंत ने बुधवार को सीएमओ कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षक किया। इस दौरान सीएमओ कार्यालय के 35 अधिकारी व कर्मचारी अनुस्थित मिले। इतनी बड़ी संख्या में स्टाफ के अनुपस्थित पाए जाने पर सख्त नाराजगी व्यक्त की। सभी अनुपस्थितों का स्पष्टीकरण तलब किया वहीं उनका वेतन काटने का भी निर्देश दिया। चेतावनी दी कि प्राप्त स्पष्टीकरण यदि संतोषजनक नहीं पाया जाता है और सीएमओ ने उसकी संस्तुति नहीं की तो संबंधित के वेतन आहरण की अनुमति देने पर कोई विचार नहीं किया जाएगा। अनुपस्थित चिकित्सकों में एसीएमओ डा. एके सिंह, डा. उमा सरन, डीसीएमओ डा. सीपी गुप्ता व डा. अरविद कुमार चौधरी शामिल हैं। लैब एसआइटी से स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया। सचेत किया कि यदि 15 दिन में स्थिति में सुधार नहीं होता है तो उनके विरुद्ध आरोप पत्र निर्गत किया जाएगा।

निरीक्षण में एफडब्ल्यू हाफिज आलम, अरविद, अजीत कुमार सिंह, कपिल मुनि मिश्र व रंजीत प्रताप सिंह, एमआइ वंदिता त्रिपाठी, अनम फातिमा, अभिषेक पांडेय व रमेश यादव, एसएमआइ अविनाश कुमार यादव, एफआइ राज किशोर सोनकर, विवेक कुमार सोनकर व चंद्रेश कुमार मौर्य भी अनुपस्थित मिले। इसके अलावा अजीत चौहान, राजेंद्र यादव, गणेश सिंह यादव, राधेश्याम यादव, अनिल कुमार श्रीवास्तव, हरिकेश लाल, सत्येंद्र चौधरी, पंचम राम व राम नयन प्रसाद भी गैरहाजिर थे। डा. सीपी चौधरी एक दिसंबर, रंजीत प्रताप सिंह तीन दिसंबर, वंदिता त्रिपाठी दो दिन और अजीत चौहान एक दिसंबर से लगातार अनुपस्थित चल रहे हैं। प्रधान सहायक सच्चिदानंद, फार्मासिस्ट अनिल चौधरी व सूबेदार यादव, ग्रीवांश मैनेजर रंजन मिश्रा व डीपीसी स्मृति मिश्रा अक्टूबर माह से लगातार, आइडीएसपी प्रोग्राम के कक्ष में आयुष चिकित्सक अफजाल अहमद, कुष्ठ विभाग में जिला मलेरिया अधिकारी डा. शशिभूषण द्विवेदी, एनसीडी दिलीप कुमार मौर्य, डीडीआरसी में एकाउंटेंड अनुपस्थित थे।