लक्ष्य के सापेक्ष 25 फीसदी भी नहीं हो सका समाधान

जासं औरैया बिजली उपभोक्ताओं को बकाया बिलों की अदायगी के लिए एक मुश्त समाधान योजना के तहत

JagranMon, 29 Nov 2021 05:43 PM (IST)
लक्ष्य के सापेक्ष 25 फीसदी भी नहीं हो सका 'समाधान'

जासं, औरैया: बिजली उपभोक्ताओं को बकाया बिलों की अदायगी के लिए एक मुश्त समाधान योजना के तहत सरचार्ज में छूट देने की पहल की गई है। छूट की अदायगी सरकार द्वारा विभाग को की जाएगी। 30 नवंबर को योजना समाप्त हो रही है। बावजूद औरैया उपखंड को दिए 56500 का लक्ष्य अभी तक 25 फीसदी भी पूरा नहीं हो सका है। विभागीय मानीटरिग में कर्मचारी उच्चाधिकारियों को उपभोक्ताओं में उत्साह की कमी को जिम्मेदार ठहरा रहे है। जबकि डोर-टू-डोर संपर्क अभियान से लेकर 90 हजार उपभोक्ताओं तक निस्तारित बिलों के नोटिस पहुंचाने का हवाला दे रहे है। सोमवार को एसडीएओ की निगरानी में घर-घर दस्तक देकर मीटर की रीडिग जांची गई।

औरैया उपखंड के शहरी क्षेत्र सोमवार को बकाया जमा करने वाले उपभोक्ता करीब 350 के करीब रहे। जो पिछले दिनों के मुकाबले अधिक थे। दूसरी ओर विभाग को शहरी क्षेत्र में समाधान योजना के तहत 8500 उपभोक्ताओं को लाभ देने का लक्ष्य दिया गया था, अभी तक के आंकड़ों में 2000 उपभोक्ताओं को लाभ देते हुए बिलों को निस्तारित कराया गया है। जो लक्ष्य के सापेक्ष 24 फीसदी हो सके है। बात की जाए ग्रामीण क्षेत्र की तो यहां 48000 का लक्ष्य दिया गया था। सोमवार तक के आंकड़ों को देखा जाए तो केवल 6000 के करीब उपभोक्ताओं के बिलों को निस्तारित किया गया। विभागीय समीक्षा में ग्रामीण क्षेत्र की प्रगति 12 फीसदी में सिमट कर रह गई है। औरैया उपखंड एक्सईएन लेखराज सिंह ने बताया कि उपभोक्ताओं में योजना का लाभ लेने के लिए उत्साह नजर नहीं आ रहा है। संविदा कर्मियों से लेकर विभाग के एसडीओ व जेई डोर-टू-डोर संपर्क कर रहे है। दूसरी ओर निस्तारित बिलों के नोटिस भी पहुंचाए गए बावजूद योजना रफ्तार नहीं पकड़ सकी है। एसडीओ महेंद्र प्रसाद के नेतृत्व में टीमों ने ब्रह्मनगर मुहल्ला, बदनपुर, ओमनगर, दयालपुर, कांशीराम कालोनी समेत कई मुहल्लों में घरों के बाहर लगे बिजली के मीटर की रीडिग जांची।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.