विवाहिता ने आत्महत्या के इरादे से तहसील में जहर खाया

मंडी धनौरा दहेज उत्पीड़न के मामले में रजबपुर पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं किए जाने से खफा विवाहिता ने जहर खा लिया।

JagranMon, 02 Aug 2021 11:54 PM (IST)
विवाहिता ने आत्महत्या के इरादे से तहसील में जहर खाया

मंडी धनौरा : दहेज उत्पीड़न के मामले में रजबपुर पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं किए जाने से खफा विवाहिता ने तहसील मुख्यालय पर जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या का प्रयास किया। पुलिस ने बेसुध सी हालत में ग्रामीण न्यायालय के नीचे से सरकारी अस्पताल पहुंचाया। चिकित्सकों ने उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

थाना बछरायूं क्षेत्र के गांव मायापुरी निवासी चंचल पुत्री धर्म सिंह सुबह करीब ग्यारह बजे तहसील मुख्यालय पहुंची। यहां उसने ग्रामीण न्यायालय के समक्ष जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। इसके बाद वह पेट पकड़कर चीखने चिल्लाने लगी। इससे यहां धरना प्रदर्शन रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं व वादकारियों में अफरा-तफरी मच गई। सुरक्षा को तैनात पुलिस कर्मी मौके की तरफ दौड़ पड़े। महिला द्वारा स्वयं जहरीला पदार्थ खाने की बात कहने पर आनन- फानन में सरकारी अस्पताल पहुंचाया।

यहां पूछताछ के दौरान उसने बताया कि उसकी शादी तीन वर्ष पूर्व थाना रजबपुर क्षेत्र के गांव भटपुरा निवासी गौतम के साथ हुई थी। ससुरालियों ने दहेज के लिए उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया। उसका रजबपुर थाने में मुकदमा दर्ज है। रजबपुर पुलिस उसकी कोई सुनवाई नहीं कर रही, वह लगातार थाने के चक्कर काट रही है। उधर, गांव के कुछ लोगों पर उसने अपने हिस्से की जमीन कब्जाने का भी आरोप लगाया।

चिकित्सकों ने विवाहिता को बेहतर उपचार के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। थानाध्यक्ष बछरायूं नरेंद्र कुमार सिंह ने बताया महिला की हालत में सुधार है। पुलिस गांव में जमीन कब्जाने के आरोपों की जांच कर रही है। वहीं पुलिस क्षेत्राधिकारी सत्येंद्र कुमार ने बताया महिला द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच की जा रही है। इसके बाद अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.