गुजरात के राज्यपाल की रगों में गुरुकुल का राग

गुजरात के राज्यपाल की रगों में गुरुकुल का राग
Publish Date:Fri, 23 Oct 2020 12:13 AM (IST) Author: Jagran

अनिल अवस्थी, अमरोहा :

यह राजनेताओं की एक अलग पीढ़ी है। कहीं भी रहें भारतीय संस्कृति, संस्कृत और संस्कार का राग रग-रग में रहता है। गुजरात के महामहिम और संस्कृत के विद्वान आचार्य डॉ. देवव्रत चार गुरुकुल स्थापित कराकर हजारों को संस्कारित करा चुके हैं। अपनी बेटी मनीषा को अमरोहा गुरुकुल में शिक्षा दिलाई। अब पौत्री वरेण्या को भी यहीं के गुरुकुल में ही संस्कार दिला रहे हैं। यह इस गुरुकुल के लिए भी खास है, क्योंकि उनकी पीढ़ी यहां संस्कार ले रही है।

आचार्य देवव्रत का यहां चोटीपुरा स्थित श्रीमद दयानंद कन्या गुरुकुल महाविद्यालय से खास लगाव है। यहां का अनुशासन व पठन-पाठन उन्हें बहुत पसंद है। इसकी देशभर में ख्याति भी है। 16 प्रातों की बेटिया संस्कारों की शिक्षा ले रही हैं। यहा से निकली वंदना उत्तराखंड कैडर की आइएएस हैं, तो सुमंगला तीरंदाजी में ओलंपिक का सफर तय कर चुकी हैं। आचार्य डॉ. देवव्रत ने वर्ष 1997 में अपनी बेटी मनीषा के लिए भी अमरोहा गुरुकुल का चुनाव किया। वर्ष 2000 तक मनीषा यहीं पढ़ीं। अब वह कुरुक्षेत्र के डीएवी कालेज में वाइस प्रिंसिपल हैं।

संस्कृत प्रेमी राज्यपाल आधुनिक के साथ वैदिक शिक्षा को भी जरूरी मानते हैं। इसलिए स्वयं भी अब तक चार गुरुकुल स्थापित कर चुके हैं। इनमें अंबाला स्थित चमन वाटिका बेटियों के लिए है। इसकी कमान राज्यपाल की पुत्रवधू कविता संभालती हैं। इसके अलावा नीलोखेड़ी करनाल, कुरुक्षेत्र व ज्योतिसर में भी एक-एक गुरुकुल संचालित करा रहे हैं। बेटे गौरव सोनीपत के ग्राम पाउटी में खेती देखते हैं।

राज्यपाल कीपौत्री वरेण्या हैं। वरेण्या ने कक्षा सात तक चमन वाटिया के साथ अंग्रेजी स्कूलों में पढ़ाई की। परंतु संस्कृत बोलने में हिचकती हैं। उनके दादा उन्हें संस्कृत में भी पारंगत देखना चाहते हैं। इसलिए उन्हें अमरोहा के गुरुकुल भेजा है। उन्होंने खुद गुरुकुल की प्राचार्य सुमेधा से फोन पर बात कर पौत्री को दीक्षित करने का आग्रह किया। एक माह से वरेण्या को यहा संस्कृत और वैदिक संस्कार सिखाए जा रहे हैं। एक फोन काल तक नहीं

आचार्य सुमेधा ने बताया कि वरेण्या अपने दादा आचार्य देवव्रत की लाड़ली हैं। फोन पर बात करने से पौत्री को कहीं पीड़ा न हो इसलिए यहां आने के बाद एक बार भी बात नहीं की। वह आचार्य सुमेधा से फोन पर हालचाल लेते हैं। वहीं, वरेण्या पढ़ाई पूरी करने के बाद आइपीएस बनना चाहती हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.