110 किमी तक मौत बनकर अनमोल के साथ बैठे रहे दोस्त, एक बार भी नहीं हुआ संदेह, चार माह पूर्व मारपीट को भी भूला

110 किमी तक मौत बनकर अनमोल के साथ बैठे रहे दोस्त, एक बार भी नहीं हुआ संदेह, चार माह पूर्व मारपीट को भी भूला
Publish Date:Sun, 20 Sep 2020 01:20 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, गजरौला : गाजियाबाद के ऑटो चालक अनमोल की हत्या करने वाले कोई और नहीं बल्कि उसके ही अपने दोस्त निकले। गाजियाबाद से गजरौला तक उसके तीनों दोस्त कातिलों के भेष में मौत बनकर साथ बैठे रहे। लेकिन, उसे जरा भी अहसास नहीं हुआ। आखिर में उन्होंने अनमोल को बेदर्दी के साथ मौत के घाट उतार दिया।

जी हां, 25 अगस्त की रात को हत्या करने वाले उसके दोस्त नन्हे, यशपाल व धारा तीनों ने अनमोल को ब्रजघाट गंगा तक के लिए 600 रुपये में बुक किया। गाजियाबाद से रात को चले। रास्ते में मौज-मस्ती करते हुए ब्रजघाट पहुंचे। अनमोल ने स्नान कर रात में ही वापस लौटने की बात कही। लेकिन, तीनों ने ऐसा करने से मना कर दिया। चूंकि उनका मकसद गंगा में स्नान कर पाप धुलने का नहीं बल्कि अनमोल की हत्या कर नया पाप करने का था। फिर वहां से कुदैना पहुंचे और हमेशा के लिए अनमोल को मौत की नींद सुला दिया। खास बात है कि अनमोल की हत्या करने वाले तीनों दोस्त कातिल के भेष में मौत बनकर साथ बैठे रहे। मगर, एक बार अनमोल को अहसास भी नहीं हुआ कि उसके साथ क्या होने वाला है। जिन कातिल नन्हे व यशपाल ने उसे मारा है। इन दोनों से पूर्व में सवारी बैठाने को लेकर मारपीट भी चुकी है। यह बात भी अनमोल भूल गया और फिर उन पर विश्वास कर लिया।

अनमोल ने खुद ही खरीदा था मौत का सामान: अनमोल ने किलीच का तार स्वयं ही खरीदा था लेकिन, उसे ऐसा मालूम नहीं था कि वही तार उसकी मौत का सामान बन जाएगा। उसके साथियों ने पहले डंडे से मारा और फिर तार से गला घोंटकर हत्या की थी। प्रभारी निरीक्षक आरपी शर्मा ने बताया कि वह तार इसलिए खरीदा गया था कि गाजियाबाद से गजरौला तक लंबे सफर में अगर ऑटो में तार आदि टूटने की दिक्कत आए तो डाल लिया जाएगा। लेकिन, वह उसकी मौत का सामान बन गया।

नन्हे की स्क्रिप्ट पर हत्या के लिए चुना गजरौला: गाजियाबाद के ऑटो चालक अनमोल की हत्या के मामले में पुलिस को पहले से ही शक था कि कोई न कोई व्यक्ति स्थानीय भी शामिल है। शनिवार को जब पर्दाफाश किया तो यही बात सामने आई। दरअसल, इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड नन्हें आदमपुर क्षेत्र का रहने वाला है। उसकी बहन कुृदैना में रहती है। वह यहां के माहौल से पूरी तरह वाफिक था। इसलिए उसकी ही पटकथा पर अनमोल को यहां लाकर मारा गया था।

कातिलों तक कैसे पहुंची पुलिस: 25 अगस्त को हुई ऑटो चालक अनमोल की हत्या में पुलिस उलझती जा रही थी। इसके पर्दाफाश में विफल रहे तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक जयवीर सिंह लाइन हाजिर हो गए। इसके बाद में नए प्रभारी निरीक्षक आरपी शर्मा ने दोबारा से हत्याकांड की नए सिरे से जांच शुरू की। गांव कुदैना के लोगों से पूछताछ कि कहीं उनका कोई परिचित गाजियाबाद में तो नहीं रहता है। तब मालूम हुआ कि गांव निवासी रामअवतार का साला नन्हे गाजियाबाद में ऑटो चलाता है। उसका मोबाइल नंबर लेकर 25 अगस्त यानी घटना वाली रात में ट्रेस किया तो वह संबंधित क्षेत्र में ही सक्रिय मिला। इसके बाद उसे गाजियाबाद से उठाया पूछताछ की तो मामला खुल गया और कातिलों तक पुलिस पहुंच गई।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.