डॉ.अजीम का निधन उर्दू जगत के लिए बड़ा नुकसान: सैयद सिब्ते रजी

डॉ.अजीम का निधन उर्दू जगत के लिए बड़ा नुकसान: सैयद सिब्ते रजी
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 01:18 AM (IST) Author: Jagran

जासं, अमरोहा: मशहूर शायर और अदीब डॉ.अजीम अमरोहवी के इंतेकाल पर शोक सभा का ऑनलाइन आयोजन आलमी मरसिया सेंटर के तत्वाधान किया गया। जिसकी अध्यक्षता पूर्व राज्यपाल सैयद सिब्ते रजी व संचालन सलीम अमरोहवी ने किया। पदमश्री डॉ. मोहसिन वली ने डॉ.अजीम अमरोहवी के जीवन पर रोशनी डाली। इसके अतिरिक्त देश-विदेश के 40 से अधिक शायरों व अदीबों ने डॉ.अजीम अमरोहवी को खिराजे अकीदत पेश की।

गुरुवार को आयोजित आनलाइन शोकसभा में पूर्व राज्यपाल श्री रजी ने कहा कि डॉ. अजीम की शक्ल में उर्दू जुबान का एक रोशन चिराग गुल हो गया। शायर और अदीब डॉ.अजीम अमरोहवी अपने नाम की तरह अजीम थे। इनके अलावा प्रो. वसीम बरेलवी, मुनव्वर राणा, डॉ. आरिफ नकवी (जर्मनी), डॉ. मोहम्मद आजम (इंग्लैंड), सुनीता झिगरन (लखनऊ), प्रो. शाहिद मेंहदी चांसलर जामिया हमर्दद, डॉ. पापुलर मेरठी, प्रो. अख्तरूल वासे वाइस चांसलर मोहम्मद आजाद यूनिवर्सिटी, मौलाना आगा रूही के अलावा उर्दू एकेडमी दिल्ली के चेयरमैन प्रो. शहपर रसूल, गालिब इंस्ट्टीयूट के डायरेक्टर डॉ. रजा हैदर, उर्दू एकेडमी उप्र. के पूर्व चेयरमैन डॉ. नवाज देवबंदी, प्रोॅ. नाशिर नकवी, डॉ. तकी आब्दी व वसीम इब्ने नसीम (कनाडा), डॉ. हिलाल नकवी (यूएई), डॉ. सुल्तान हैदर (दम्माम), मौलाना इमाम हैदर (टोरंटो), फिल्म डायरेक्टर मुजफ्फर अली, आइआरएस नासिर अली, शफीक हसन शफक, आगा सरोश हैदराबादी, प्रो नय्यर जलालपुरी ने भी विचार व्यक्त किए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.