पुलिस ने गांव-गांव की पंचायत चुनाव को लेकर व्यूह रचना

पुलिस ने गांव-गांव की पंचायत चुनाव को लेकर 'व्यूह रचना'

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को कोरोना के बढ़ते संक्रमण के

JagranFri, 23 Apr 2021 11:12 PM (IST)

अमेठी : त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच शांतिपूर्ण माहौल में निष्पक्ष कराने की बड़ी जिम्मेदारी पुलिस पर है। चुनाव की तारीख करीब है। आने वाले 26 अप्रैल को सुबह सात बजे से मतदान शुरू होना है। जिला प्रशासन के साथ ही पुलिस एक्शन मोड में है। हाईप्रोफाइल अमेठी में बड़े सियासी घमासान के बीच पुलिस ने गांव-गांव, बूथ-बूथ चुनाव कराने के लिए व्यूह रचना की है।

गांवों में चुनावी रंजिश कुंडली तैयार की गई कार्रवाई

लोकसभा व विधानसभा चुनाव से कहीं अधिक पंचायत चुनाव संवेदनशील होते हैं। इस चुनाव में एक-एक वोट का महत्व होता है। ऐसे में चुनाव में उतरने वाले दावेदार हर तरह के दांव-पेंच खेलते हैं। गांवों की राजनीति में पार्टीबंदी हावी रहती है और यही झगड़े का कारण भी बनती है। ये झगड़े अकसर बड़ा रूप ले लेते हैं। चुनावों से पहले और बाद तक चुनावों की रंजिश निकाली जाती है। पिछले चुनावों के दौरान हुई वारदातों से पुलिस सबक लेकर गांवों की पार्टीबंदी पर पूरी तरह से नजर रख रही है। छोटे-बड़े झगड़े, भूमि विवाद और अन्य विवादों के अलावा गांवों की आबादी, जातिगत आंकड़ों व संवेदनशीलता को भी ध्यान में रखकर तैयारी की गई है।

नशे का कारोबार बिगाड़ सकता है पुलिस का खेल

जिले में थानावार पांच सौ लोगों की लिस्ट तैयार की गई है जो पिछले चुनावों के समय शराब बेचने और निकालने के आरोप में जेल जा चुके हैं। उन सभी को पुलिस ने रडार पर ले लिया है। उनकी गतिविधियों पर भी ध्यान दिया जा रहा है। इसके साथ ही कप्तान ने थानेदारों से साफ-साफ कह दिया है कि अगर किसी के क्षेत्र में नशे ने हालात बिगाड़े तो उसकी थानेदारी छीन ली जाएगी और भविष्य में भी उसे चार्ज नहीं मिलेगा।

जहां कभी हुआ था विवाद, वहां इस बार रहेगा पुख्ता इंतजाम

किसी भी चुनाव में जहां किसी भी तरह का विवाद हो चुका है। वहां इस बार पहले से ही पुख्ता इंतजाम रहेंगे। वहीं पंचायत चुनाव 2015 में अतिसंवेदनशील प्लस की श्रेणी में 30, अतिसंवेदनशील 46 व संवेदनशील बूथों की संख्या 55 थी। इन बूथों पर इस बार पुलिस ने अपना होमवर्क पूरा कर लिया है। कुछ नए बूथ भी चिन्हित किए गए हैं। एसपी खुद इन बूथों की मानीटरिग कर रहे हैं।

इन पर है सुरक्षा की जिम्मेदारी

पदनाम स्वीकृत कार्यरत एसपी 01 01

एएसपी 01 01 सीओ 04 04

इंस्पेक्टर पुरुष 29 23

इंस्पेक्टर महिला 02 01

सब इंस्पेक्टर 194 120

मुख्य आरक्षी पुरुष 376 271

मुख्य आरक्षी महिला 13 13

आरक्षी पुरुष 1206 983

आरक्षी महिला 192 206

निरीक्षक प्रतिसार 01 01

यह भी होंगे साथ

होमगार्ड : 509

पीआरडी : 400

चौकीदार : 965

(नोट: सभी आकड़ा पुलिस विभाग का है।)

बाहर से आए 10 हजार से अधिक फोर्स

जिले में चुनाव को शांतिपूर्ण माहौल में सम्पन्न कराने के लिए जिले की पुलिस फोर्स के सहयोग के लिए आस-पास के जिलों के साथ ही पीएसी के 10 हजार से अधिक जवान आ रहे हैं। जो हर हाल में 24 अप्रैल की शाम तक जिले में अपनी आमद करा देंगे।

600 गरूड़ रखेंगे निगाह, आसमान से करेंगे 10 ड्रोन निगरानी

च नाव में किसी भी तरह की गड़बड़ी रोकने के लिए छह सौ गरूड़ हर समय सक्रिय रहेंगे तो मतदान वाले दिन जमीन से लेकर आसमान तक से निगाह रखी जाएगी। संवेदनशील बूथों पर नजर रखने के लिए 10 ड्रोन भी आसमान में पूरे समय उड़ान भरते रहेंगे।

गांव-गांव सक्रिय हैं 150 बाइक सवार कलस्टर

पंचायत चुनाव को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए पुलिस की 150 कलस्टर टीमें गाव-गांव सक्रिय हैं। इन पर चुनाव की गतिविधयों पर निगाह रखने की जिम्मेदारी है। कलस्टर टीमें लगातार गांव-गांव पहुंच हालात पर निगाह रखें हुए हैं।

अब तक की गई कार्रवाई

शांतिभंग में गए जेल : 18630

शांतिभंग में हुए पाबंद : 31405

116 (3) में हुए पाबंद : 13400

110 जी : 1134 गुंडा एक्ट : 78 जिला बदर : 16 गैगेस्टर : 04 बरामद अवैध शस्त्र : 48 हर मोर्चे पर डटी है पुलिस

पंचायत चुनाव को सकुशल संपन्न कराने के लिए पुलिस बल सर्तक व सजग है। पुलिस हर मोर्चे पर मजबूती से काम कर रही है। दस हजार से अधिक फोर्स बाहर से आ रही है। इसके साथ ही छह सौ गरूड़, 10 ड्रोन व 150 कलस्टर टीमें लगातार काम कर रही है।

दिनेश सिंह, एसपी, अमेठी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.