पीसीएफ केंद्रों पर किसानों का नहीं, मिलरों का खरीदा जा रहा धान

पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष समेत पांच सदस्यीय टीम के स्थलीय निरीक्षण में हुआ खुलासा

JagranPublish:Mon, 07 Dec 2020 11:55 PM (IST) Updated:Mon, 07 Dec 2020 11:55 PM (IST)
पीसीएफ केंद्रों पर किसानों का नहीं, मिलरों का खरीदा जा रहा धान
पीसीएफ केंद्रों पर किसानों का नहीं, मिलरों का खरीदा जा रहा धान

अमेठी : खरीद केंद्रों पर व्याप्त भ्रष्टाचार का स्थलीय सत्यापन कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने ज्ञापन के माध्यम से जिला प्रशासन को स्वयं के द्वारा निरीक्षण में मिली खामियों के बाबत अवगत कराया है।

भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष उमाशंकर पांडेय ने ज्ञापन देते हुए कहा कि विधान सभा क्षेत्र गौरीगंज के दुलापुर खुर्द, हरदोईया, रामशाहपुर, पिछौरा, मुड़ियापुर, नीमी, दखिनवारा, हरदों व दादरा क्रय केंद्र पर खरीद नहीं हो रही है। पीसीएफ क्रय केंद्रों पर संबंधित गांवों के किसानों की खरीद प्रभावित है। क्यों कि वहां पर मिलरों का धान लिया जा रहा है। सेंभुई व बरनाटीकर क्रय केंद्र पर दूसरे जगहों के किसानों का नाम खरीद में दर्ज किया गया है। चंदौकी, जमुवारी, सेंभुई, पिडारा, बरनाटीकर, नेवादा व मुसाफिरखाना में रजिस्टर पर किसान का नाम तो लिखा गया है। कितु उनका पता नहीं दर्शाया गया है। इससे संदेह होता है कि केंद्र प्रभारियों द्वारा मिलर का धान खरीद कर घपला किया जा रहा है। निरीक्षण में यह बात भी सामने आई कि पीसीएफ क्रय केंद्रों पर सचिव मौके पर नहीं मिले। क्रय केंद्रों पर बुनियादी ढांचा बहुत कमजोर है। कहीं पर कांटा खराब है तो कहीं ओसाई का पंखा नहीं है। मुसाफिरखाना व नेवादा पीसीएफ केंद्र पर एक ही व्यक्ति को सचिव बनाया है। जिसका कार्य व्यवहार ठीक नहीं है। पारदर्शी धान खरीद के लिए दूसरा सचिव नियुक्त किया जाए। पूर्व जिलाध्यक्ष ने अपर जिलाधिकारी वंदिता श्रीवास्तव को सात सूत्रीय ज्ञापन सौंप कर मामले का सत्यापन कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। इस मौके पर पूर्व जिलामंत्री भूपेंद्र कुमार मिश्र व सुरेश कुमार त्रिपाठी, जिला कार्यसमिति सदस्य अजय कुमार दुबे व पूर्व मंडल अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह मौजूद रहे।