बीम के नीचे दबने से श्रमिक की मौत

बीम के नीचे दबने से श्रमिक की मौत

जगदीशपुर औद्योगिक क्षेत्र स्थित भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स

JagranSat, 17 Apr 2021 11:42 PM (IST)

अमेठी : जगदीशपुर औद्योगिक क्षेत्र स्थित भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) फैक्ट्री में शनिवार की सुबह करीब 10 बजे काम कर रहा एक श्रमिक बीम के नीचे दब गया। जिससे उसकी घटना स्थल पर मौत हो गई। सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने फैक्ट्री का घेराव कर दिया। फैक्ट्री अधिकारियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया है।

कठौरा के अशरफगढ़ गांव का रहने वाला बाबूलाल पुत्र सर्वजीत उम्र करीब 35 वर्ष भेल जगदीशपुर इकाई में कई वर्षों से काम कर रहा था। वह सुबह घर से आठ बजे ड्यूटी गया था। वहां पर वह ग्रैडिग का काम कर रहा था। तभी लगभग दस बजे काम करते समय उसके ऊपर एक बीम गिर गई। जिसके नीचे वह दब गया। आवाज सुनकर भेल कर्मी व सहयोगी दौड़े और वहां पर अफरा-तफरी मच गई। श्रमिक के मौत की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में परिवारजनों व ग्रामीणों ने फैक्ट्री का गेट घेर कर विरोध जताने लगे। सूचना पर पहुंची पुलिस परिवारजनों को लेकर फैक्ट्री के अंदर गई। परिवारजनों ने बताया कि बाबूलाल आठ साल से यहां काम कर रहा था। थानाध्यक्ष शिवाकांत पांडेय ने बताया कि फैक्ट्री के अधिकारियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिवारजनों की उपस्थिति में शव का पंचनामा कर पीएम के लिए भेज दिया गया है। रिपोर्ट के आधार पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

मंत्री ने ली मृतक के परिवारजनों की सुध

क्षेत्रीय विधायक व राज्यमंत्री सुरेश पासी ने भेल इकाई में हुई श्रमिक के मौत की सूचना पर फैक्ट्री पहुंचकर मृतक के परिवारजनों को ढांढस बंधाया। इस दौरान मंत्री ने भेल के अधिकारियों व परिवारजनों के साथ बैठक कर आश्रितों को आर्थिक सहायता दिलाने के निर्देश जिम्मेंदारों को दिए। मृतक श्रमिक की पत्नी को नौकरी व अन्य लाभ दिलाए जाने का भरोसा दिया। मंत्री ने मृतक के आश्रितों को हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया है। इस मौके पर भेल प्रबंधन के जिम्मेदार व एसडीएम मुसाफिरखाना सुनील त्रिवेदी, सीओ मुसाफिरखाना मनोज यादव सहित अन्य लोग मौजूद रहे। भेल करेगा श्रमिक की हर सम्भव मदद

भेल जगदीशपुर के महाप्रबंधक रूपेश तैलंग ने बताया कि मृतक के परिवार के एक सदस्य को ठेके पर नौकरी में रखा जाएगा। ईएसआइ के तहत लगभग पांच लाख, ग्रुप इंश्योरेंस में लगभग पांच लाख, पीएफ की समस्त जमा राशि, ईएसआइ द्वारा परिवार के सदस्य को पेंशन, ठेकेदार द्वारा 50 हजार रुपये नगद सहायता राशि, ठेकेदार सिंह एंड कम्पनी द्वारा पांच लाख, ठेकेदार नैंसी फैब्रीकेटर द्वारा पांच लाख, व कर्मचारियों के सहयोग से एकत्रित राशि करीब ढाई लाख रुपये व अन्य देय जो भी है नियमानुसार देय हैं दिलाए जाएंगे। फैक्ट्री प्रबंधन पूरी तरह श्रमिक के परिवार के साथ है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.