एक ही बूथ पर मतदान कर सकेगा पूरा परिवार, वोटिंग बढ़ाने के लिए निर्वाचन आयोग की पहल

हर जतन कर आयोग मतदान प्रतिशत बढ़ाने में लगा है। एक नई पहल के तहत यदि एक ही परिवार के लोगों के नाम अलग-अलग बूथ पर हैं तो उनका फार्म-8 ए भरवाया जाएगा। इससे परिवार के सभी सदस्यों को एक ही मतदान केंद्र पर जाने की सहूलियत दी जाएगी

Ankur TripathiFri, 26 Nov 2021 04:49 PM (IST)
परिवार के सभी सदस्यों को एक ही बूथ पर मतदान करने की सुविधा देने की व्यवस्था की

प्रतापगढ़, जेएनएन। विधान सभा चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग का पूरा फोकस अभी मतदाता सूची व मतदान का प्रतिशत बढ़ाने पर है। नए वोटरों का नाम सूची में शामिल कराने, मृतकों के नाम कटवाने के लिए अभियान चल रहे हैं। साथ ही मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए आयोग ने एक और पहल करते हुए परिवार के सभी सदस्यों को एक ही बूथ पर मतदान करने की सुविधा देने की व्यवस्था की है। उनको इधर-उधर भटकना नहीं होगा।

निर्वाचन आय़ोग मतदान प्रतिशत बढ़ाने का कर रहा प्रयास

हर जतन करके आयोग मतदान प्रतिशत बढ़ाने में लगा है। लोगों को कई तरह की सुविधाएं दी जाएंगी। एक नई पहल के तहत यदि एक ही परिवार के लोगों के नाम अलग-अलग बूथ पर हैं तो उनका फार्म-8 ए भरवाया जाएगा। इससे परिवार के सभी सदस्यों को मतदान के लिए एक ही मतदान केंद्र पर जाने की सहूलियत दी जाएगी। इस कार्य से वोटिंग का औसत बढ़ेगा। इसके लिए बीएलओ को मतदाता सूची काे ठीक से देखकर ऐसे परिवारों की अलग से सूची बनाने को कहा गया है। उनसे कहा गया है कि वह सूची का मिलान कर लें। जांचकर लें तथा फार्म भरवाकर उसे पोर्टल पर अपलोड कर लें। यह सुनिश्चित करें कि परिवार के सभी सदस्यों को मतदान के लिए एक ही मतदान केंद्र मिले। इधर मतदाता सूची को दुरुस्त करने को हर रविवार स्पेशल अभियान चल रहा है। इसकी दो तिथियों पर यहां बूथों पर कैंप लगाए गए। इसी महीने यह काम पूरा भी किया जाना है।

कमिश्नर ने चुनाव की तैयारी में जुटे अफसरों को किया सक्रिय

इस बीच मतदाता सूची के मंडलीय पर्यवेक्षक के रूप में नामित कमिश्नर संजय गोयल ने भी निर्देश जारी किए हैं। उनके पत्र ने यहां चुनाव की तैयारी से जुड़े अफसरों को और सक्रिय कर दिया है। पत्र में कहा गया है कि सूची सुधार आयोग का सबसे महत्वपूर्ण कार्य है। इसमें मानक के अनुरूप कार्य न करने वाले निष्क्रिय अधिकारी व कर्मचारी चिन्हित करके दंडित किए जाएंगे। उप जिला निर्वाचन अधिकारी एडीएम सुनील शुक्ला ने बताया कि जिले में विधान सभावार सात इआरओ और उनके साथ 30 एइआरओ बनाए गए हैं। इसके अतिरिक्त 280 सुपरवाइजर बनाए गए हैं। अब तक जिले में 25 हजार फार्म पुनरीक्षण के लिए आए हैं। इनमे से 18 हजार से अधिक फार्म आनलाइन फीड हो गए हैं। सभी बीएलओ आयोग द्वारा विकसित गरुण एप अपने मोबाइल में लोड कर रहे हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.