Unique Campaign: दुष्‍कर्म मुक्‍त भारत के लिए छात्र साइकिल से निकल पड़े कन्याकुमारी, कर रहे जागरूकता

दुष्‍कर्म मुक्‍त भारत मुहिम का संदेश लेकर निकले शिवम ने तर्क दिया है कि नोटबंदी की देश में किसी ने उम्मीद नहीं की थी लेकिन वह भी हो गया। ऐसे में एक दिन भारत भी दुष्‍कर्म मुक्‍त हो जाएगा। इसके मनोदशा बदलने की आवश्यकता है।

Brijesh SrivastavaSun, 28 Nov 2021 08:18 AM (IST)
प्रयागराज में बीए के छात्र का सपना है कि देश में दुष्‍कर्म की घटनाएं न हों। वह जागरूकता फैला रहा।

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। दुष्‍कर्म की घटनाएं बढ़ रही हैं। इससे सभी परेशान और चिंतित हैं। वहीं प्रयागराज में अध्‍ययन करने वाला एक छात्र भी देश के विभिन्न हिस्सों से दुष्कर्म की आ रही खबरों से आहत है। इसके प्रति लोगों जागरूकता फैलाने के लिए स्नातक अंतिम वर्ष के इस छात्र ने जागरूकता की मुहिम चलाई है। वह देश को दुष्कर्म मुक्त करने के लिए प्रयागराज से साइकिल से कन्याकुमारी के लिए निकल पड़े हैं।

मध्‍य प्रदेश के कटनी निवासी छात्र प्रयागराज में बीए का छात्र है

मूलरूप से मध्य प्रदेश के कटनी स्थित हरदुआ गांव निवासी शिवम मौर्य हेमवती नंदन बहुगुणा राजकीय पीजी कालेज में बीए (भूगोल, राजनीति विज्ञान) अंतिम वर्ष के छात्र हैं। उनके पिता जयशंकर मौर्य कटनी रेलवे जंक्शन पर ग्रुप-डी कर्मचारी और मां दीपा मौर्या गृहिणी हैं। परिवार में शिवम के अलावा छोटी बहन सृजन है।

बहन के जन्‍मदिन पर पुरानी साइकिल खरीद निकल पड़े मिशन पर

शिवम ने बताया देश भर से प्रतिदिन दुष्कर्म के केस सामने आ रहे हैं। इससे आहत होकर उन्होंने दो नवंबर को बहन के जन्मदिन पर 1600 रुपये में पुरानी साइकिल खरीदी। साइकिल में दुष्‍कर्म मुक्‍त भारत का बोर्ड लगाया। साथ में बिछौना और कंबल के अलावा कुछ कपड़े लिए और निकल पड़े। वह शनिवार दोपहर जम्मू के पास पठानकोट पहुंच चुके थे। अभी 3200 किलोमीटर का सफर तय करना बाकी है।

शिवम बोले- नोट बंद तो दुष्‍कर्म बंद क्यों नहीं

दुष्‍कर्म मुक्‍त भारत मुहिम का संदेश लेकर निकले शिवम ने तर्क दिया है कि नोटबंदी की देश में किसी ने उम्मीद नहीं की थी लेकिन वह भी हो गया। ऐसे में एक दिन भारत भी दुष्‍कर्म मुक्‍त हो जाएगा। इसके मनोदशा बदलने की आवश्यकता है।

बोले, छात्र शिवम के शिक्षक

हेमवती नंदन बहुगुणा राजकीय पीजी कालेज में भूगोल के शिक्षक डाक्‍टर अरुण कुमार कहते हैं कि शिवम पढ़ाई में काफी अव्वल है। कई दिनों से वह कालेज नहीं आ रहा था तो उसके साथियों से पूछा। तब मुझे जानकारी हुई कि वह तो समाज को जागरूक करने के लिए साइकिल से कन्याकुमारी के लिए निकल पड़ा है। शिवम एक अच्‍छे मिशन पर निकला है, उसका जागरूकता अभियान सफल हो, यही कामना है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.