गुरु का वंदन कर शिष्यों ने व्यक्त की कृतज्ञता

गुरु पूर्णिमा पर्व पर आस्था विश्वास व समर्पण की त्रिवेणी प्रवाहमान रही। ज्ञान रूपी वैतरणी से समस्त भवसागर को पार करने में सक्षम बनाने वाले गुरु के प्रति उनके शिष्य कृतज्ञता व्यक्त की। मठ-मंदिरों में गुरु दर्शन-पूजन के लिए दूर-दराज से भक्त आए। गुरु की आरती पूजन करके उनके चरणो पर शीश झुकाकर जीवनभर सान्निध्य प्राप्ति की कामना की।

JagranSat, 24 Jul 2021 11:39 PM (IST)
गुरु का वंदन कर शिष्यों ने व्यक्त की कृतज्ञता

जागरण संवाददाता, प्रयागराज : गुरु पूर्णिमा पर्व पर आस्था, विश्वास व समर्पण की 'त्रिवेणी' प्रवाहमान रही। ज्ञान रूपी वैतरणी से समस्त भवसागर को पार करने में सक्षम बनाने वाले गुरु के प्रति उनके शिष्य कृतज्ञता व्यक्त की। मठ-मंदिरों में गुरु दर्शन-पूजन के लिए दूर-दराज से भक्त आए। गुरु की आरती, पूजन करके उनके चरणो पर शीश झुकाकर जीवनभर सान्निध्य प्राप्ति की कामना की। वहीं, गुरु ने शिष्य को भवबाधा से मुक्त रहते हुए उनके कल्याण का आशीर्वाद दिया।

सनातन धर्मावलंबी शनिवार की भोर से संगम में स्नान करने के लिए पहुंचने लगे। स्नान और ध्यान करने के बाद तीर्थपुरोहितों के निर्देशानुसार दान-पुण्य करके गुरु का पूजन किया। शंकराचार्य आश्रम अलोपीबाग में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य जगद्गुरु स्वामी वासुदेवानंद का उनके शिष्यों ने विधि-विधान से पूजन किया। वहीं, वासुदेवानंद ने ज्योतिष्पीठ के समस्त ब्रह्मालीन पीठाधीश्वरों का पूजन किया। पूजन में डा. शिर्वाचन उपाध्याय, ब्रह्मचारी आत्मानंद, आचार्य छोटे लाल, आचार्य विपिन मिश्र आदि शामिल रहे।

वहीं, श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने सुबह ध्वज पूजन व जनकल्याण के लिए रुद्राभिषेक किया। श्रीमहंत अमर गिरि के नेतृत्व में शिष्यों ने महंत नरेंद्र गिरि का पूजन करके आरती उतारी। मठ में संतों व भक्तों के लिए भंडारा हुआ। बांध स्थित श्रीदेवरहा बाबा आश्रम में गुरु पूर्णिमा महोत्सव डा. रामेश्वर प्रपन्नाचार्य शास्त्री की अध्यक्षता में आयोजित हुआ। प्राचीन मनकामेश्वर मंदिर में ब्रह्माचारी श्रीधरानंद के नेतृत्व में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद के चित्र का विधि-विधान से पूजन किया गया। इसके बाद श्रीधरानंद के शिष्यों ने उनका पूजन किया। लक्ष्मीनारायण मंदिर अलोपीबाग में जगद्गुरु घनश्यामाचार्य की अध्यक्षता में गुरु पूजन हुआ। देश के विभिन्न शहरों से आए घनश्यामाचार्य के शिष्यों ने उनका पूजन करके आशीर्वाद लिया। परमहंस प्रभाकर जी महाराज के शिष्यों ने मंत्रोच्चार के बीच पूजन करके आशीर्वाद लिया।

----

इंटरनेट मीडिया में हुआ प्रसारण

कोरोना संक्रमण के मद्देनजर इस बार मठ व मंदिरों में शिष्यों की संख्या अपेक्षा से कम रही। अधिकतर लोगों को उनके गुरु ने मना कर दिया था। दूर-दराज के शिष्यों की सहूलियत के लिए गुरु पूजन का प्रसारण इंटरनेट मीडिया में किया गया। इससे जो जहां थे वहीं से गुरु का दर्शन किया।

-----

आनंद गिरि ने गुरु से बनाई दूरी

जासं, प्रयागराज : गुरु पूर्णिमा पर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के शिष्य योगगुरु स्वामी आनंद गिरि ने दूरी बनाए रखी। उन्हें गुरु पूर्णिमा पर श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी आकर गुरु पूजन करना था, लेकिन वो आए नहीं। हरिद्वार में रहकर श्रीनिरंजनी अखाड़ा के आराध्य भगवान कार्तिकेय का पूजन करके गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया। कहा कि गुरु ने उनसे जो वादा किया था उसके अनुरूप कोई काम नहीं किया। हर आश्वासन झूठे निकल गए, ऐसी स्थिति में वो प्रयागराज कैसे आते? इसी कारण वो प्रयागराज नहीं आए। हर बार आनंद गिरि ही गुरु पूर्णिमा पर मठ की व्यवस्था संभालते थे। गौरतलब है कि परिवार से संपर्क रखने व गुरु के खिलाफ साजिश करने के आरोप में आनंद गिरि को निरंजनी अखाड़ा ने 14 मई 2021 को निष्कासित कर दिया था। बाद में क्षमा मांगने के बाद उन्हें माफ कर दिया था। सनातन परंपरा को आगे बढ़ाएं : प्रभु जी

---फोटो---

जासं, प्रयागराज : ओम नम: शिवाय संस्था के गऊघाट स्थित आश्रम में गुरु पूर्णिमा उत्सव धूमधाम से मना। सर्वप्रथम प्रभु जी ने अपने गुरु भगवान भोलेनाथ के शिवलिंग का रुद्राभिषेक करके जनकल्याण की कामना की। फिर देश के विभिन्न शहरों से शिष्यों ने मंत्रोच्चार के बीच उनका पूजन करके आरती उतारी। प्रभु जी ने कहा कि माता-पिता के बाद गुरु ही व्यक्ति की उन्नति के बारे में सोचते हैं। हर गुरु के लिए उनका शिष्य सर्वोपरि है।

----

आनलाइन गतिविधियों से गुरु के प्रति व्यक्त की श्रद्धा

जासं, प्रयागराज : पतंजलि ऋषिकुल में गुरुपूर्णिमा पर आनलाइन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। विद्यार्थियों ने चित्र बनाकर, स्लोगन लिखकर या गीत के जरिए अपने शिक्षकों के प्रति सम्मान जताया। कक्षा छठवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों ने श्लोक वाचन, कविता पाठ कर वीडियो बनाया। कुछ विद्यार्थियों ने ई-कार्ड बनाए। पतंजलि ऋषिकुल विद्यालय की उपाध्यक्षा डा. कृष्णा गुप्ता ने गुरु पूíणमा पर शिक्षकों और छात्रों द्वारा दी गई प्रस्तुति को सराहा और सभी को शुभकामनाएं दीं। विद्यालय के प्रधानाचार्य नित्यानंद सिंह, सुरेंद्र नाथ द्विवेदी ने भी विचार रखे। ध्वज और वेदव्यास को किया नमन

जासं, प्रयागराज : ज्वाला देवी सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज गंगापुरी में महíष वेदव्यास को नमन किया गया। सरस्वती वंदना के बाद महर्षि वेद व्यास के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। आचार्य राधेश्याम तिवारी ने कहा कि महाभारत के रचयिता कृष्ण द्वैपायन व्यासजी का जन्म आषाढ़ की पूíणमा को हुआ था। वेदव्यास को गुरुओं का गुरु कहा जाता है, इसलिए उनके जन्मोत्सव को गुरु पूíणमा के रूप में मनाया जाता है। प्रधानाचार्य युगल किशोर मिश्र ने भी विचार रखे। विद्यालय के सभी अध्यापकों ने ज्ञान के प्रतीक भगवा ध्वज का गुरु प्रतीक के रूप में पूजन किया। कार्यक्रम का संचालन रीता विश्वकर्मा ने किया। रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कालेज में भी गुरु पूíणमा का आयोजन हुआ। प्रधानाचार्य बांके बिहारी पांडेय ने सभी को शुभकामनाएं दीं। संगीताचार्य मनोज गुप्ता ने सागर से भी गहरा बंदे गुरुदेव का प्यार है भजन सुनाकर समा बांध दिया। इस अवसर पर आचार्य सत्य प्रकाश पाडेय, अनूप कुमार, सचिन सिंह परिहार, चंद्रशेखर सिंह, शैलेश सिंह यादव, अभिषेक शर्मा, पायल जायसवाल, ओंकार पाडेय आदि मौजूद रहे। गुरु पूíणमा पर हुआ पौधारोपण

संसू, झूंसी : शनिवार को गुरु पूíणमा के अवसर पर हेतापट्टी गांव में लायंस क्लब अनुपम की ओर से पौधारोपण किया गया। इस मौके पर क्लब की अध्यक्ष डा. उमा जायसवाल ने कहा कि जैसे बिना गुरु के ज्ञान संभव नहीं वैसे ही बिना पौधों के जीवन भी अधूरा है। संचालन डा. मानस तिवारी ने किया। इस मौके पर पीपल, नीम, आम व अन्य प्रजातियों के पौधों को लगाया गया। कार्यक्रम में डा. राजमल कुशवाहा, जया खरे, सैला, श्वेता तिवारी, यशविन सहित ग्रामीण उपस्थित रहे।

देवकीनंदन के शिष्यों ने किया पूजन

जासं, प्रयागराज : विश्व शाति सेवा समिति के कार्यालय पर गुरु पूíणमा महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। गुरु देवकीनंदन ठाकुर का वर्चुअल पूजन किया गया। पूजन के बाद संगीतमय सुंदरकांड का पाठ हुआ। संयोजन समिति के सचिव अंतरिक्ष शुक्ल ने किया। उन्होंने बताया कि देवकीनंदन ठाकुर अक्टूबर अथवा नवंबर में प्रयागराज आएंगे। कार्यक्रम में एसपी श्रीवास्तव, डाली श्रीवास्तव, मानिक चंद्र श्रीवास्तव, राजेश सिंह, सुनीता श्रीवास्तव, रंजना श्रीवास्तव, राहुल तिवारी, ज्ञानेंद्र सिंह, रामानंद दूबे, शोभी वर्मा, अरविंद मिश्र, आयुष त्रिपाठी, ऋषभ सिंह मौजूद रहे। योगी आदित्यनाथ का किया वंदन

प्रयागराज : हिंदू युवा वाहिनी महानगर के सदस्यों ने संगठन के मुख्य संरक्षक व प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गुरु पूर्णिमा पर वंदन किया। मंत्रोच्चार के बीच योगी के चित्र को टीका लगाकर विधि-विधान से पूजन किया। पूजन में महानगर अध्यक्ष मोनू गुप्त, जिला महामंत्री गोविंद जी गुप्त, ओपी गुप्त, महेश विश्वकर्मा, राजू केसरवानी, बंटी साहू आदि शामिल रहे। सांसद ने किया वासुदेवानंद का पूजन

प्रयागराज : गुरु पूर्णिमा पर सांसद फूलपुर केशरीदेवी पटेल, भाजपा महानगर अध्यक्ष गणेश केशरवानी, एमएलसी सुरेंद्र चौधरी ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य जगद्गुरु स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती का पूजन करके आशीर्वाद लिया। महावतार बाबा वटवृक्ष के आध्याध्मिक परिसर में मनाया गया गुरु पूíणमा महोत्सव

प्रयागराज : झूंसी स्थित क्रियायोग आश्रम एवं अनुसंधान संस्थान में शनिवार को गुरु पूíणमा महोत्सव के पावन अवसर पर गुरुदेव स्वामी श्री योगी सत्यम जी ने महावतार बाबाजी वटवृक्ष की वेदी पर दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

गुरु पूíणमा महोत्सव 17 जुलाई से 27 जुलाई तक मनाया जाएगा द्य इस अवसर पर भारत के विभिन्न देशों से आए लोगों के साथ साथ , कनाडा यूरोप, नेपाल , सिंगापुर, साउथ अफ्रीका, यू 0एस0 ए0 ब्राजील आदि देशों से भी लोग आए हैं। गुरु पूíणमा महोत्सव के अवसर पर आए हुए देश विदेश से साधकों को स्वामी श्री योगी सत्यम जी ने बताया कि सद्भावना- सद्विचार- सच्ची धारणा से गुरु की सेवा करने पर गुरु और शिष्य की दूरी समाप्त हो जाती है द्य इस अवस्था में गुरु शिष्य एक हो जाते हैं, और उनके परम ब्रह्म के बीच दूरी अदृश्य हो जाती है द्य ऐसी स्थिति में सभी प्रकार की शारीरिक बीमारिया मानसिक चिंताएं व अज्ञानता हमेशा के लिए समाप्त हो जाती है। अध्याध्मिक सिद्धात के अनुसार शिष्यों ने गुरुदेव स्वामी श्री योगी सत्यम जी के प्रति अपनी भक्ति अíपत की कार्यक्रम के दौरान स्वामी जी ने क्रियायोग के सभी गुरुओं महावतार बाबा जी, योगा अवतार लाहिरी महाशय जी, स्वामी युक्तेश्वर गिरी, परमहंस योगानंद जी के बारे में विस्तार से प्रकाश डाला। शिक्षण संस्थानों में मनाया गया गुरु पूíणमा महोत्सव

संसू, नैनी : महर्षि विद्या मंदिर नैनी में हर्ष एवं उल्लास के साथ आनलाइन गुरु पूíणमा मनाया गया। इस अवसर पर संस्था के अध्यक्ष ब्रह्मचारी डॉ. गिरीश चंद्र वर्मा के निर्देशन में गीताश्लोक, श्रीरामचरित मानस चौपाई एवं गुरुभजन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। माधव ज्ञान केंद्र इंटर कालेज में आरएसएस के भाग संचालक दशरथ,भाग कार्यवाह अजय और स्कूल के प्रधानाचार्य डा. विदेश्वरी प्रसाद त्रिपाठी ने महर्षि वेदव्यास के चित्र पर माल्यार्पण किया। संचालन जनार्दन प्रसाद त्रिपाठी ने किया। कार्यक्रम में सुरेस्वर मिश्रा, संजय कुमार मिश्रा, राधेश्याम तिवारी, राजकुमार पाल आदि उपस्थित रहे। गुरु ही हमें दिखाता है सच्चा मार्ग

संसू, झूंसी : सेंट्रल एकेडमी स्कूल में आनलाइन गुरु पूíणमा महोत्सव मनाया गया। विद्यालय के निदेशक एसके तिवारी ने कहा कि मानव जीवन में गुरु का अप्रतिम योगदान होता है। गुरु ही हमें सच्चा मार्ग दिखाता है। प्रधानाचार्य एके पांडेय ने कहा कि बदलते दौर में गुरु की महत्ता और अधिक बढ़ गई है। समारोह का संचालन अतुल मिश्र ने किया। इस अवसर पर दिवाकर श्रीवास्तव, संजीव वर्मा, राकेश मिश्रा, राहुल दुबे, राजीव मिश्रा, विनय शुक्ला, इंद्रजीत, अरशद व सिराज आदि मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.