प्रतापगढ़ में युवक ने पंचायत में विवाह से किया इन्कार तो प्रेमिका ने दी अपनी जान

प्रेमी की ना से आहत होकर प्रेमिका ने फांसी लगाकर जान दे दी। परिवार के लोग गमगीन।
Publish Date:Wed, 28 Oct 2020 08:56 PM (IST) Author: Brijesh Srivastava

प्रयागराज, जेएनएन। प्रतापगढ़ में कंधई थाना क्षेत्र के ताला गांव में एक युवक और नाबालिग लड़की के बीच चल प्रेम संबंध को विवाह का अमली जामा पहनाने के लिए बुधवार को पंचायत बैठी, मगर पंचायत में ही युवक ने शादी करने से इन्कार कर दिया। इस भरी पंचायत में युवक ने शादी से इन्कार कर दिया। प्रेमी की ना से आहत होकर प्रेमिका ने फांसी लगाकर जान दे दी। उसकी लाश प्रेमी के घर के सामने रखकर परिवार के लोगों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान दोनों पक्षों के बीच मारपीट भी हुई। घायल आधा दर्जन लोगों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पिटाई से जख्मी प्रेमी की नाजुक हालत देखते हुए उसे स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल रेफर कर दिया गया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दो साल से था प्रेम संबंध

ताला गांव का रहने वाला रामबरन गौतम मजदूरी करता है। उसकी पुत्री साधना (17) का पड़ोस के राजकुमार उर्फ राजा से दो वर्षों से प्रेम संंबंध था। दो-तीन बार वे दोनों घर से कई दिन के लिए बाहर जा चुके थे। मंगलवार की शाम लगभग पांच बजे दोनों फिर एक साथ कहीं चले गए। दोनों के परिवार वालों ने तलाश शुरू की मगर वे नहीं मिले। बुधवार की सुबह जब दोनों गांव लौटे तो ग्रामीणों ने उनके रिश्ते की वजह से हो रही बदनामी का हवाला देते हुए शादी कराने का प्रस्ताव रख दिया। इस पर ग्राम प्रधान अयोध्या प्रसाद के घर पर दिन में 12 बजे पंचायत बैठ गई।

विवाह से मना कर दिया प्रेमी ने

 पंचायत में ग्रामीणों ने राजा और साधना के समक्ष शादी का प्रस्ताव रखा। पंचायत ने दोनों से बातचीत के बाद शादी का फैसला सुना दिया। इसी दौरान राजा तमतमा कर उठ खड़ा हुआ और साधना से शादी करने से इन्कार कर दिया। लड़के के घरवालों ने लड़की के पिता से कहा कि वह अपनी बेटी की शादी कहीं और कर दें, उनकी तरफ से खर्च के तौर पर 30 हजार रुपये दे दिए जाएंगे। अचानक राजा के बदले व्यवहार से साधना आहत होकर उठी और घर में घुसकर कमरे का दरवाजा बंद कर लिया। इसके बाद भी दिन में ढाई बजे तक पंचायत चलती रही।

कमरे में जाकर लगा ली फांसी

ग्रामीण राजा और उसके घरवालों को शादी के लिए राजी करने का प्रयास कते रहे, लेकिन बात नहीं बनी। वहीं दूसरी ओर जब पंचायत में लोगों ने साधना को दोबारा बुलाने के लिए कहा तो परिवार के लोग घर के अंदर गए। वहां कमरे में साधना फांसी पर लटकी मिली। उसे आनन फानन नीचे उतारा गया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। इस दौरान किशोरी के परिजन शव लेकर प्रेमी के घर पर जा पहुंचे। वहां हंगामा शुरू हो गया।

मारकर लटकाने के आरोप पर मारपीट

 लड़की के भाई अखिलेश ने आरोप लगाया कि राजा के घर वालों ने साधना को मारकर फंदे पर लटका दिया। इसी आरोप-प्रत्यारोप के दौरान दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हो गई। किसी तरह गांव वालों ने शांत कराया। कंधई पुलिस मौके पर पहुंच गई। मारपीट में अखिलेश (26), राजकुमार उर्फ राजा (21), धर्मराज (30), लालती (55), राजेंद्र उर्फ कालू (45) एवं पंकज (14) गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया, वहां से गंभीर हालत देखते हुए राजकुमार उर्फ राजा, धर्मराज और पंकज को प्रयागराज स्थित स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। पुलिस ग्राम प्रधान सहित तीन लोगों से पूछताछ करती रही। गांव में तनाव को देखते हुए पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है।  

एएसपी बोले, जांच के बाद होगी कार्रवाई

एएसपी (पूर्वी) सुरेंद्र द्विवेदी का कहना है कि जांच में पता चला कि मृतका साधना व राजा दोनों के परिवार में पट्टीदारी का सम्बंध हैं। मंगलवार रात लगभग आठ बजे साधना राजकुमार उर्फ राजा के साथ मेला देखने गई थी। मेला से वापस लौटने पर लड़की अपने घर न जाकर राजकुमार उर्फ राजा के ही घर पर रह गई। बुधवार को दोनों परिवार में विवाद हो गया। लड़की के मृत होने की सूचना मिली। मृतका के पिता ने आरोप लगाया कि लड़के वालों ने उनकी लड़की को मार दिया है। पुलिस द्वारा शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजवा दिया गया है। मृत्यु की सही वजह पोस्टमार्टम से स्पष्ट होगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.