अनोखे ढंग से लोगों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक कर रहे प्रतापगढ़ के शिक्षक अनिल, लिखते हैं आकर्षक स्लोगन

स्लोगन के जरिए प्रतापगढ़ के शिक्षक अनिल लोगों को यातायात के नियमों का पालन करने को प्रेरित कर रहे हैं।

तय गति सीमा से यदि तेज हुई रफ्तार दो हजार तक जुर्माने को हो जाओ तैयार। इस तरह के स्लोगन के जरिए प्रतापगढ़ जनपद के शिक्षक अनिल लोगों को यातायात के नियमों का पालन करने को प्रेरित कर रहे हैं।

Ankur TripathiSun, 28 Feb 2021 07:00 AM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। तय गति सीमा से यदि तेज हुई रफ्तार, दो हजार तक जुर्माने को हो जाओ तैयार। इस तरह के स्लोगन के जरिए प्रतापगढ़ जनपद के शिक्षक अनिल लोगों को यातायात के नियमों का पालन करने को प्रेरित कर रहे हैं। उनका मानना है कि जागरूक नागरिक ही सशक्त राष्ट्र की अमूल्य निधि एवं नींव होते हैं।

सरल भाषा में लिखते हैं स्लोगन

सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता फैलाने का राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सराय आनादेव के विज्ञान शिक्षक अनिल कुमार निलय ने एक अनोखा तरीका निकाला है। वे सड़क सुरक्षा से सभी सभी नियमों और उनके उल्लंघन से संबंधित सजा के प्रावधानों को स्वरचित गीतों एवं स्लोगन के माध्यम से विद्यार्थियों तक पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं। स्लोगन व गीतों की भाषा बेहद सरल रखी है, ताकि छोटे-छोटे विद्यार्थी भी इसे आसानी से याद रख सकें। अनिल कुमार इन स्लोगन एवं गीतों को दीवार पर स्वयं पेंटिंग करने का कार्य भी कर रहे हैं ताकि यह जागरूकता अभियान अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सके। 

समाज में जागरूकता है जरूरी

शिक्षक अनिल कुमार निलय का कहना है कि आज के विद्यार्थी कल के नागरिक होंगे। विद्यार्थियों को जागरूक विद्यार्थी बनाया जाए तो निश्चित रूप से वे जागरूक नागरिक बनेंगे। सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए विद्यार्थियों को सड़क पर वाहन चलाने के नियमों का ज्ञान होना अतिआवश्यक है। साथ ही साथ नियमों का उल्लंघन करने पर निर्धारित सजा के प्रावधानों से भी विद्यार्थियों एवं आम जनमानस को अवगत होना चाहिए ताकि वे इनके उल्लंघन से बचें।

ये हैं शिक्षक द्वारा लिखे गए स्लोगन 

ओवरस्पीड

तय गति सीमा से यदि तेज हुई रफ्तार।

दो हजार तक जुर्माने को हो जाओ तैयार।

बिना हेलमेट 

तीन माह लाइसेंस अनर्ह,एक हजार जुर्माना।

बगैर हेलमेट आप कभी गाड़ी नहीं चलाना।

 बिना बीमा 

गाड़ी बीमा का अगर रखा नहीं ध्यान।

तीन माह तक जेल में तय बनना मेहमान।

बिना सीट बेल्ट 

बिना सीट बेल्ट यदि गाड़ी गई चलाई,

एक हजार जुर्माना देना पड़ेगा भाई।

इमरजेंसी वाहन

इमरजेंसी वाहन को अगर दिया नहीं रास्ता।

छह माह तक पाओगे जेल का ही नाश्ता।

बिना लाइसेंस 

बिना लिए लाइसेंस अगर,गाड़ी लेकर जाओगे।

पांच हजार जुर्माना,भरकर ही घर आओगे।

अल्कोहल का सेवन

छह माह जेल की हवा और दस हजार जुर्माना।

अल्कोहल का सेवन कर कभी गाड़ी नहीं चलाना। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.