Street Vendors: प्रयागराज शहर के स्ट्रीट वेंडरों की सोशल ईको प्रोफाइल हो रही तैयार, मिलेगा सरकारी योजना का लाभ

केंद्र सरकार द्वारा संचालित आठ योजनाओं जनधन जीवन ज्योति बीमा योजना वन नेशन वन राशन कार्ड मातृ वंदना योजना पीएम सुरक्षा बीमा योजना जननी सुरक्षा योजना पीएम श्रमयोगी मानधन योजना से शहरी स्ट्रीट वेंडरों को जोडऩे के लिए उनकी सोशल ईको प्रोफाइलिंग डूडा द्वारा तैयार कराई जा रही है।

Brijesh SrivastavaMon, 26 Jul 2021 01:44 PM (IST)
केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ देने के लिए स्‍ट्रीट वेंडरों की सोशल ईको प्रोफाइलिंग तैयार कराई जा रही है।

प्रयागराज, जेएनएन। शहरी क्षेत्र के स्ट्रीट वेंडरों को केंद्र सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाओं का लाभ दिलाने के मकसद से उनकी सोशल ईको प्रोफाइल तैयार कराई जा रही है। अब तक डूडा प्रयागराज में 13770 स्ट्रीट वेंडरों की सोशल ईको प्रोफाइल तैयार करा चुकी है। पोर्टल पर इन स्ट्रीट वेंडरों का रजिस्ट्रेशन भी कराया जा चुका है। इनके परिवारों की भी सोशल ईको प्रोफाइलिंग तैयार कराई जा रही है। यह प्रक्रिया आगे भी जारी रहेगी। 

स्‍ट्रीट वेंडरों को केंद्र सरकार की आठ योजनाओं का मिलेगा लाभ

केंद्र सरकार द्वारा संचालित आठ योजनाओं जनधन, जीवन ज्योति बीमा योजना, वन नेशन वन राशन कार्ड, मातृ वंदना योजना, पीएम सुरक्षा बीमा योजना, जननी सुरक्षा योजना, पीएम श्रमयोगी मानधन योजना से शहरी स्ट्रीट वेंडरों को जोडऩे के लिए उनकी सोशल ईको प्रोफाइलिंग डूडा द्वारा तैयार कराई जा रही है। यह प्रोफाइलिंग उन्हीं की तैयार हो रही है, जिन्हें पीएम स्वनिधि योजना के तहत 10 हजार रुपये का कर्ज रोजगार के लिए बैंकों से दिलाया जा चुका है।

डूडा की परियोजना अधिकारी ने कहा

अब तक 18698 लोगों को ऋण दिया जा चुका है। उसमें से 13770 स्ट्रीट वेंडरों और 16251 स्ट्रीट वेंडरों के परिवार के लोगों की भी सोशल ईको प्रोफाइलिंग तैयार कराई जा चुकी है। डूडा की परियोजना अधिकारी वर्तिका सिंह का कहना है कि सभी स्ट्रीट वेंडरों और उनके परिवारीजनों को आठों योजनाओं से संतृप्त कराने के लिए सोशल ईको प्रोफाइलिंग तैयार कराई जा रही है।

अगस्त से मिलेगा 600 गोपालकों को मानदेय

अस्थाई गोशालाओं में काम कर रहे गोपालकों के लिए अच्छी खबर है। अगस्त से उन्हें मानदेय के रूप में 5226 रुपये मिलेगा। पंचम राज्य वित्त आयोग के मद से मानदेय देने की स्वीकृति मिलने के बाद विभागों ने तैयारी पूरी कर ली है। जिले की ग्राम पंचायतों में खोली गई 123 अस्थाई गोशालाओं में करीब 13589 गोवंश हैं। करीब 600 गोपालक इनकी देखभाल में लगे हैं। इन्हें अब मानदेय के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। पंचायत निधि से भुगतान का आदेश हो गया है। 201 रुपये प्रतिदिन पारिश्रमिक के रूप में 5226 रुपये मानदेय दिया जाएगा। जिलास्तरीय अनुश्रवण समिति की स्वीकृति के बाद तैयारी की गई है। ग्राम पंचायत निधि से प्रतिमाह पांच से 10 तारीख के बीच मानदेय दिया जाएगा। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. आरपी राय ने बताया कि जिलाधिकारी की स्वीकृति के बाद ग्राम पंचायत निधि से गोपालकों को मानदेय देने की तैयारी की गई है। अगले माह से इन्हें 5226 रुपये प्रतिमाह दिया जाएगा।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.