वाहन चोरों के गिरोह का पर्दाफाश, छह शातिर गिरफ्तार Prayagraj News

वाहन चोरों के गिरोह का पर्दाफाश, छह शातिर गिरफ्तार Prayagraj News

गिरोह का सरगना विजय सरोज अपनी बाइक छोड़कर मौके से भाग निकला। पुलिस उसकी तलाश में कई संभावित ठिकानों पर छापेमारी की लेकिन अभी वह पकड में नहीं आया।

Publish Date:Mon, 03 Aug 2020 06:28 PM (IST) Author: Brijesh Srivastava

प्रयागराज, जेएनएन। पडोसी जनपद प्रतापगढ में आसपुर देवसरा पुलिस ने वाहन चोरों के गिरोह को पर्दाफाश करके छह शातिरों को गिरफ्तार किया है। इन शातिरों की निशानदेही पर पुलिस ने चोरी की सात बाइक बरामद की है, जबकि गिरोह का सरगना भागने में सफल रहा। पुलिस उसकी तलाश में लगी है।

देवसरा थाने के एसआइ अजय कुमार व एसआइ अश्वनी कुमार पटेल ने मुखबिर की खास सूचना पर फोर्स के साथ रविवार को देर शाम दाउदपुर चौराहे पर स्थित बिनैका स्कूल के पास से घेरेबंदी करके राजेश सरोज पुत्र सालिल राम निवासी केवटली, नील कमल उर्फ प्रिंस पुत्र छोटेलाल व सूरज गौतम पुत्र अमृतलाल गौतम निवासीगण बिझला को पकड़कर लिया। उनके पास से चार बाइक बरामद की। इनका एक साथी गिरोह का सरगना विजय सरोज अपनी बाइक छोड़कर मौके से भाग निकला।

निशानदेही पर चोरी की तीन बाइक पुलिस ने की बरामद

पकड़े गए शातिरों की निशानदेही पर पुलिस टीम ने तेलियानी पुलिया नहर के पास वाहन चोर गिरोह के सदस्य रंजीत पुत्र जयंत्री प्रसाद निवासी बिझला, नन्हेलाल पुत्र रामनरेश निवासी केवटली, सुरेंद् विश्वकर्मा पुत्र प्यारेलाल विश्वकर्मा निवासी गोदलपट्टी को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से भी चोरी की तीन बाइक बरामद की गई।

एसओ के अनुसार गिरफ्तार राजेश, नीलकमल व सूरज ने कबूल किया कि मौके से फरार होने विजय सरोज था। उसके साथ मिलकर वे लोग बाइक चुराते हैं। चोरी की गई स्प्लेंडर प्लस, सुपर स्प्लेंडर, एचएफ डीलक्स को क्रमश: जीआइसी प्रतापगढ़, अजीतनगर स्थित मॉल व मदाफरपुर बाजार से चोरी की थी। इसके अलावा एक और सुपर स्प्लेंडर जिला अस्पताल प्रतापगढ़ से चुराई थी। पल्सर, डिस्कवर को कहीं से चुराकर विजय सरोज ने उन्हें बेचने के लिए दी थी, जबकि बरामद टीवीएस विक्टर विजय की है।

फर्जी रजिस्ट्रेशन पेपर बनाकर बेच देते थे चोरी की बाइक

एसओ सुनील कुमार सिंह ने बताया कि यह शातिर लोग नंबर प्लेट बदलकर और फर्जी रजिस्ट्रेशन पेपर बनाकर बाइक को दूसरे व्यक्ति को बेच देते थे। गैंग के छह लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया। जबकि मौके से फरार  गैंग के सरगना विजय सरोज की तलाश की जा रही है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.