ट्रेनोंं में करते थे चोरी, माल समेत तीन अपराधी गिरफ्त में Prayagraj News

जीआरपी और आरपीएफ ने ट्रेन में पैसेंजर का समान चोरी करने वाले गिरोह के तीन बदमाशों को दबोचा है।

इन अपराधियों ने कुबूला कि वे लंबी दूरी की ट्रेनों मेंं सवार होेने के बाद यात्रियोंं के बैग अटैचियां मोबाइल फोन पर्स आदि चुरा ले जाते थे। यह गिरोह दिल्ली मुंबई हैदराबाद रूट की ट्रेनों में कई वारदात कर चुका था।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 05:58 PM (IST) Author: Rajneesh Mishra

प्रयागराज, जेएनएन। रेलवे सुरक्षा बल और जीआरपी प्रयागराज ने संयुक्त रूप से अभियान चलाया। इस दौरान यात्री समान चोरी करने के तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया गया। माल बरामद करने के साथ ही उनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया गया। इन अपराधियों ने कुबूला कि वे लंबी दूरी की ट्रेनों मेंं सवार होेने के बाद यात्रियोंं के बैग, अटैचियां, मोबाइल फोन, पर्स आदि चुरा ले जाते थे। यह गिरोह दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद रूट की ट्रेनों में कई वारदात कर चुका था। इनसे पूछताछ के बाद जीआरपी और आरपीएफ गिरोह में शामिल अन्‍य बदमाशों की तलाश में लगी है।

बिहार के भी हैं अपराधी

पिछले दिनों जियारत एक्सप्रेस में एक यात्री का सामान चोरी हो गया था। शिकायत मिलने पर आरपीएफ और जीआरपी की टीम सक्रिय हुई। मुखबिर की सूचना पर टीम ने प्रयागराज छिवकी जंक्शन पर प्लेटफार्म नंबर 02/03 के पूर्वी छोर से जंक्शन के बोर्ड के पास नशीले पाउडर व चोरी के सामान के साथ दो आरोपितों को सोमवार रात करीब पौने नौ बजे पकड़ा। इन आरोपितों की निशानदेही पर सामान छिपाने वाले एक शख्स को दशनाम जून अखाड़ा संगम के पास रात साढ़े ग्यारह बजे पकड़ा। आरोपितों ने अपने नाम रमाकांत (48) निवासी दशनाम जूना अखाड़ा, त्रिवेणी बांध, संगम चौकी के पीछे, दारागंज, लखविन्दर पासवान (28) निवासी श्रीरामपुर पूसा, समस्तीपुर, बिहार और छोटू कुमार (27) निवासी कैलाजने, सारे, नालंदा बिहार बताया है। आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। टीम में आइपीएफ प्रयाग बुधपाल, उपनिरीक्षक अमित कुमार द्विवेदी, जीआरपी के एसएसआइ सुधीर पांडेय, एसआइ अजीत शुक्ला, उपनिरीक्षक रामकुमार आदि शामिल थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.