top menutop menutop menu

Murder in Kaushambi : रिटायर्ड शिक्षक की सिर कूचकर हत्या, अंगूठी व चेन लूट ले गए हत्‍यारे

Murder in Kaushambi : रिटायर्ड शिक्षक की सिर कूचकर हत्या, अंगूठी व चेन लूट ले गए हत्‍यारे
Publish Date:Tue, 04 Aug 2020 11:20 AM (IST) Author: Brijesh Srivastava

प्रयागराज, जेएनएन। कौशांबी जनपद में मंझनपुर कोतवाली क्षेत्र में रिटायर्ड शिक्षक की हत्‍या कर दी गई। सोमवार की रात में वह चक गांव में अहाते में सो रहे थे। इसी दौरान हत्‍यारों ने उनकी सिर कूचकर मौत के घाट उतार दिया गया। साथ ही उनके हाथ से अंगूठी व गले में पहनी गई सोने की चेन बदमाश लूट ले गए। हत्‍या की जानकारी सुबह ग्रामीणों और परिवार के सदस्‍यों को हुई तो सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर फोर्स के साथ पहुंचे पुलिस अफसरों ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। पूछताछ के बाद शव कब्‍जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। अज्ञात कातिलों की तलाश पुलिस कर रही है।

राज बहादुर गांव के बाहर हाता में पशुबाड़े की रखवाली करते थे

चक गांव निवासी राज बहादुर 70 पुत्र भाभूति सिंह रिटायर शिक्षक थे। गांव के बाहर हाता बनाकर वह पशुबाड़े की रखवाली करते थे। सोमवार की रात भी वह वहीं हाता में सो रहे थे। इसी दौरान बदमाश हाता में पहुंचे और सो रहे राज बहादुर के सिर में डंडे आदि से प्रहार कर हत्या कर दी। राज बहादुर हाथ में सोने की चार अगूठी और गले में सोने की चैन पहनते थे। हत्‍यारों ने राज बहादुर की हत्‍या करने के बाद अंगूठी और चेन ले गए।

सुबह ग्रामीणों ने रक्‍तरंजित शव देखा

मंगलवार की सुबह हाता के पास गए ग्रामीणों ने राम बहादुर की रक्‍तरंजित लाश देखी। शोर होने पर परिवार के सदस्‍यों के साथ ही ग्रामीणों की भीड़ जुटी। इसी बीच ग्रामीणों ने सूचना पुलिस को दी। पुलिस फोर्स के साथ ही अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। जांच-पड़ताल के बाद शव कब्‍जे में ले लिया। पुलिस ने राज बहादुर के स्‍वजनों के साथ ही ग्रामीणों से भी पूछताछ की। फिलहाल हत्‍या किसने की और किस मकसद से की, इसका पता लगाने का पुलिस प्रयास कर रही है। हालांकि हत्‍यारे अभी पुलिस की पकड़ से दूर ही हैं।

बोले मंझनपुर के कोतवाल

इस संबंध में मंझनपुर थाने के कोतवाल मनीष कुमार पांडे का कहना है कि फौरी तौर पर यह पता चल रहा है कि चोरी की नीयत से आए बदमाशों ने रिटायर्ड शिक्षक की हत्‍या की है। फिलहाल हत्‍या की वजह का पता लगाया जा रहा है। साथ ही कातिलों का भी सुराग लगाया जा रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.