Resolving power problem Maha Camp: कोरोना वायरस संक्रमण में बिजली विभाग के इस महाकैंप पर ग्रहण

बिजली समस्या निस्तारण महाकैंप पर कोरोना वायरस संक्रमण ने रोक लगा दी है।

Resolving power problem Maha Camp बिजली समस्या निस्तारण महाकैंप में शिकायतकर्ताओं की भीड़ जुटती थी। इससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया था जिस कारण अधिकारियों ने विचार-विमर्श किया और फिर इसे रोक दिया गया। उपभोक्ताओं को शिकायतों के निस्तारण को महाकैंप के शुरू होने का इंतजार करना होगा।

Brijesh SrivastavaTue, 20 Apr 2021 08:36 AM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। बिजली विभाग ने उपभोक्ताओं की समस्याओं के समाधान के लिए प्रयागराज में महाकैंप लगा था। करीब छह महीने पहले माह के प्रथम और तीसरे शनिवार व रविवार को सभी उपकेंद्रों पर बिजली समस्या निस्तारण महाकैंप का आयोजन शुरू किया था। इसमें लोगों की समस्याओं का भी समाधान होता था। उच्चाधिकारी इसकी समीक्षा भी करते थे। इससे शिकायतकर्ताओं को काफी राहत मिल रही थी। वहीं अब कोरोना संक्रमण का इस महाकैंप पर ग्रहण लग गया है। अगले आदेश तक इसे स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। इसके पीछे कोरोना संक्रमण का तेजी से पांव पसारना है।

भीड़ जुटने पर संक्रमण का था खतरा

बिजली समस्या निस्तारण महाकैंप में शिकायतकर्ताओं की भीड़ जुटती थी। इससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया था, जिस कारण अधिकारियों ने विचार-विमर्श किया और फिर इसे रोक दिया गया। ऐसे में अब उपभोक्ताओं को अपनी शिकायतों के निस्तारण के लिए महाकैंप कब से शुरू होगा, इसका इंतजार करना पड़ेगा। हालांकि, उपकेंद्रों पर उपभोक्ताओं की समस्या का समाधान होगा, लेकिन उस तरह से नहीं हो जाएगा जैसे महाकैंप में होता था।

बड़ी संख्या में कोरोना की चपेट में आ चुके हैं कर्मचारी

बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मचारी बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के चपेट में आ चुके हैं। अब तक सौ से अधिक अधिकारी और कर्मचारी इस बीमारी की गिरफ्त में हैं। ऐसे में उपकेंद्रों में बिजली कर्मचारियों की संख्या भी कम हो गई है। अधिकारियों के पीड़ित होने की वजह से काफी दिक्कत भी सामने आ रही हैं। हालांकि, दूसरे उपकेंद्रों में तैनात अधिकारी किसी प्रकार अधिकारी विहीन कार्यालयों का कामकाज देख रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.