प्रयागराज में बेहतर होगी राशन वितरण प्रणाली और मॉनिटरिंग, शुरू हुई ऑनलाइन फीडिंग

राशन वितरण प्रणाली प्रयागराज में आनलाइन की जा रही है।

फीडिंग की प्रगति एवं सूचना के लिए आठ बाल विकास परियोजना अधिकारियों को नामित किया गया है। कार्य पूरा होने के बाद राशन वितरण की बेहतर मॉनिटरिंग हो सकेगी। इसका लाभ सीधे लाभार्थियों को मिल सकेगा। इसकी तैयारी की जा रही है।

Publish Date:Sat, 05 Dec 2020 11:51 AM (IST) Author: Brijesh Srivastava

प्रयागराज, जेएनएन। राशन वितरण प्रणाली को और बेहतर करने के लिए प्रयागराज में भी कवायद तेजी से चल रही है। आइसीडीएस विभाग ऑनलाइन पोर्टल पर सूचना अपलोड कर रहा है। इसमें लाभार्थियों की जानकारी के साथ ही राशन की मात्रा भी बताई जा रही है। इसी के साथ ही पूरी वितरण प्रणाली ऑनलाइन की जा रही है।

सूचनाएं पोर्टल पर अपलोड की जा रही है : जिला कार्यक्रम अधिकारी

जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार राव ने बताया कि राशन वितरण की प्रक्रिया को बेहतर किया जा रहा है।  मॉनिटरिंग की व्यवस्था और अच्छी की जा रही है। सभी सूचनाएं पोर्टल पर अपलोड की जा रही है। प्रदेश स्तर पर सभी जिला कार्यक्रम अधिकारी और बाल विकास परियोजना अधिकारियों को तीन दिसम्बर को ऑनलाइन प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है। प्रयागराज में कुल 22 परियोजना और 4499 आंगनवाड़ी केंद्र हैं। सभी में अपलोडिंग का कार्य हो रहा है। जल्द ही यह प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। 

फीडिंग की प्रगति के लिए आठ अधिकारी नामित

फीडिंग की प्रगति एवं सूचना के लिए आठ बाल विकास परियोजना अधिकारियों को नामित किया गया है। कार्य पूरा होने के बाद राशन वितरण की बेहतर मॉनिटरिंग हो सकेगी। इसका लाभ सीधे लाभार्थियों को मिलेगा।

तीन लाख 88 हजार 369 लाभार्थी हैं

मनोज कुमार राव ने बताया कि अभी जिले में तीन लाख 88 हज़ार 369 लाभार्थी हैं। इनमें 6 माह से 3 वर्ष के 205115 बच्चे, 3 साल से 6 साल के 88233 बच्चे, 82798 गर्भवती व धात्री महिलाएं और 12223 अति कम वजन के बच्चे शामिल हैं। अपलोड की जा रही सूचना में लाभार्थी की जानकारी के साथ ही कोटेदार, आंगनवाड़ी केंद्र और राशन की मात्रा भी शामिल है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.