Politics: श्रीराम मंदिर की होर्डिंग से चढ़ा प्रयागराज का सियासी पारा, भाजपा और सपा में जबानी जंग

भाजपा की तरफ से सोहबतियाबाग व यमुनापार के इलाकों में लगवाई गई होर्डिंग में लिखा है कि फर्क साफ है। इसमें अयोध्या में श्रीराम मंदिर से जुड़ी दो तस्वीरें हैं। पहली तस्वीर में रामलला टेंट में विराजमान हैं दूसरी में निर्माणाधीन श्री राम मंदिर का मॉडल दिखाया गया है।

Ankur TripathiPublish:Tue, 07 Dec 2021 08:00 AM (IST) Updated:Tue, 07 Dec 2021 05:14 PM (IST)
Politics: श्रीराम मंदिर की होर्डिंग से चढ़ा प्रयागराज का सियासी पारा, भाजपा और सपा में जबानी जंग
Politics: श्रीराम मंदिर की होर्डिंग से चढ़ा प्रयागराज का सियासी पारा, भाजपा और सपा में जबानी जंग

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। आगामी विधानसभा चुनाव से पहले संगम नगरी में भाजपा की तरफ से श्री राम मंदिर को लेकर लगवाई गई होर्डिंग ने सियासी माहौल को गर्म कर दिया है। इस पर विपक्ष हमलावर हो गया है। सपा नेताओं का कहना है कि भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है। यही वजह है कि चुनाव पास आने पर मंदिर, मस्जिद, कब्रिस्तान और पाकिस्तान कर रही है। वह लोगों को बांटने में जुटी है। सच यह है कि अयोध्या में श्री राम मंदिर न्यायालय के आदेश पर बन रहा है भाजपा का उसमें कोई योगदान नहीं है। दूसरी तरफ भाजपा नेता इसे अपनी उपलब्धि बता रहे हैं।

भाजपाइयों ने कहा- श्रीराम हमारी आस्था हैं, उन्हें हम कभी नहीं छोड़ेंगे

भाजपा की तरफ से सोहबतियाबाग व यमुनापार के कई इलाकों में लगवाई गई होर्डिंग में लिखा है कि फर्क साफ है। इसमें अयोध्या में श्रीराम मंदिर से जुड़ी दो तस्वीरें हैं। पहली तस्वीर में रामलला टेंट में विराजमान हैं, दूसरी में निर्माणाधीन श्री राम मंदिर का मॉडल दिखाया गया है। यह भी लिखा है तब और अब। कमल के फूल के साथ बनी इस होर्डिंग में स्लोगन है कि सोच ईमानदार काम दमदार। इस संबंध में भाजपा काशी क्षेत्र के उपाध्यक्ष अवधेश गुप्ता ने कहा कि श्री राम हम सब की आस्था के केंद्र हैं। यह मंदिर हमारी सांस्कृतिक विरासत है। इसे सहेजने का संकल्प भाजपा ने लिया और पूरा किया। पहले यही विपक्ष सवाल करता था कि कब मंदिर बनाओगे, अब निर्माण शुरू हो चुका है। इसमें क्या परेशानी है। श्री राम को भाजपा कभी नहीं छोड़ेगी।

लोगों को बांट रही है भाजपा, बोले सपा के जिलाध्यक्ष

सपा के जिलाध्यक्ष योगेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार में महंगाई और बेरोजगारी बढ़ी है। किसान परेशान हैं। कोरोना ने स्वास्थ्य व्यवस्था की भी कलई खोल दी। हर जगह सरकार फेल साबित हुई। अब लोगों को बांटकर सत्ता हासिल करने का कुचक्र रचा जा रहा है। यह होर्डिंग भी इसी रणनीति का हिस्सा है।