गणतंत्र दिवस पर बनी रहे शांति व्यवस्था इसलिए प्रयागराज पुलिस है अलर्ट, बार्डर पर हो रही जांच

प्रयागराज रेंज के सभी जिलों में चौकसी बढ़ा दी गई है और सीमाओं पर जांच भी शुरू हो गई है।

गणतंत्र दिवस पर शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस महकमा अलर्ट मोड में आ गया है। प्रयागराज रेंज के सभी जिलों में चौकसी बढ़ा दी गई है और सीमाओं पर जांच भी शुरू हो गई है। इंटरनेट मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर नजर रखी जा रही है।

Publish Date:Sat, 23 Jan 2021 08:35 PM (IST) Author: Ankur Tripathi

प्रयागराज, जेएनएन। गणतंत्र दिवस पर शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस महकमा अलर्ट मोड में आ गया है। प्रयागराज रेंज के सभी जिलों में चौकसी बढ़ा दी गई है और सीमाओं पर जांच भी शुरू हो गई है। संदिग्ध लोगों के साथ ही इंटरनेट मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म की नजर रखी जा रही है। ताकि किसी तरह की अप्रिय घटना न हो सके।

आइजी ने भी दिए सजग रहने के निर्देश

आइजी केपी सिंह ने सभी पुलिस कप्तानों को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। ऐतिहासिक धरोहर, धार्मिक स्थल, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, माघ मेला क्षेत्र, आनंद भवन, हाईकोर्ट जैसे अन्य महत्वपूर्ण संस्थान व प्रतिष्ठान पर पुलिस की निगरानी बढ़ा दी गई है। इसी तरह प्रतापगढ़, कौशांबी और फतेहपुर में पुलिस अधिकारी सुरक्षा-व्यवस्था का खाका खींच चुके हैं। चारों जिलों की सीमाओं पर बैरियर लगाकर संदिग्ध वाहन और व्यक्तियों की जांच शुरू कर दी गई है। आइजी केपी सिंह का कहना है कि गणतंत्र दिवस पर रेंज में शांति-व्यवस्था कायम रहे, इसके लिए सभी जिलों की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। 

भूमि बैनामा के नाम पर हड़पे डेढ़ लाख

कौशांबी के कोखराज थाना क्षेत्र के मोहम्मदपुर असवां गांव में भूमि बैनामा के नाम पर प्रयागराज के युवक से कुछ लोगों ने डेढ़ लाख रुपये हड़प लिए। मामले की शिकायत पर पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्रयागराज जनपद के खुल्दाबाद हिम्मतगंज निवासी अर्पित केसरवानी पुत्र रामजी ने बताया कि मोहम्मदपुर असवां गांव में उन्होंने एक प्लाट देखा। गांव के ही सत्यनारायण ने भूमि की कीमत लगाई। मामला तय होने के बाद अर्पित ने डेढ़ लाख रुपये दे दिए। कई महीना बीत जाने के बाद भी भूमि बैनामा नहीं की गई। इस पर अर्पित ने रुपये मांगने शुरू किए। सत्यनारायण पहले तो टालमटोल करता रहा। इसके बाद 10 जनवरी को देने से ही इन्कार कर दिया। साथ ही कहीं शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी। इससे आहत पीडि़त ने पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई। एसपी के आदेश पर पुलिस ने सत्यनारायण समेत असवां गांव के ही अरुण, सुरजीत, धनंजय व कंजू के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.