Prayagraj Magh Mela 2021: माघ मेला में कड़ाके की ठंड में भी दिन भर चलता है चाय का लंगर

संत हैं भगवानदास त्यागी जी महाराज ने प्रयागराज के माघ मेला में चाय का लंगर खोल रखा है।

Prayagraj Magh Mela 2021 इन्‍हीं में से एक संत हैं भगवानदास त्यागी जी महाराज। अयोध्या से आए यह संत पूरे मेले तक रहेेंगे। वह दिनभर लोगों को चाय पिलाते हैं। उनकी चाय की केतली दिनभर चूल्हे पर चढ़ी ही रहती है। दूध चीनी चाय आदि का इंतजाम भक्त करते हैं।

Publish Date:Fri, 22 Jan 2021 11:54 AM (IST) Author: Brijesh Kumar Srivastava

प्रयागराज, जेएनएन। प्रयागराज माघ मेला 2021 बसने लगा है। यहां पर संतों और कल्पवासियों को आना शुरू हो गया है। मेला बसा तो उसके अलग-अलग रंग दिखने लगे हैं। कहीं बाबा धूनी रमाए बैठे हैं तो कहीं भंडारा चल रहा है। इसी बीच तपस्वी नगर में चाय का लंगर भी शुरू हो गया है। यहां पर बाबा भगवान दास त्यागी जी महाराज दिनभर लोगों को चाय की पिलाते हैं। 

मेला में सबसे पहले खाक चौक के संत बसे हैं। महावीर मार्ग पर बसे इन संतों ने जप तप शुरू कर दिया है। मेला प्राधिकरण में इनको जमीन और टेंट दे दिया। उसी से यह संतुष्ट है। इन्होंने प्रशासन से कोई और सुविधा नहंीं मांगी। टेंटों के नीचे इन्होंने अपनी धूनी रमा दी है। तपस्वी नगर में बसे यह सभी संत दिनभर भजन कीर्तन में लीन रहते हैं। 

इन्‍हीं में से एक संत हैं भगवानदास त्यागी जी महाराज। अयोध्या से आए यह संत पूरे मेले तक रहेेंगे। वह दिनभर लोगों को चाय पिलाते हैं। उनकी चाय की केतली दिनभर चूल्हे पर चढ़ी ही रहती है। उन्होंने बताया कि इसके लिए दूध, चीनी, चाय आदि का इंतजाम भक्त करते हैं। उन्होंने बताया कि देश के अलग-अलग हिस्सों से सामान यहां पर आ गया है। वह मेला तक सभी संतों के साथ जप तप के अलावा लोगों की सेवा करेंगे। तपस्वी नगर के मुख्य महंत राम संतोष दास जी महाराज बिना किसी विशेष सुविधा के खुले आसमान के नीचे यहां तपस्या कर रहे हैं। यहां के संत मूंज की जनेऊ पहनते हैं। इसे वह खुद ही बनाते हैं। मूंज की जनेऊ बनाने में सेवादास त्यागी जी महाराज एक्सपर्ट हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.