डा. प्रवीण तोगड़िया का प्रयागराज दौरा, त्रिवेणी संगम बांध स्थित लेटे हनुमान जी का दर्शन किया

प्रयागराज प्रवास के प्रयोजन पर उन्होंने कहा कि दो वर्षों से पूरे देश में गतिविधियां ठप हैं। अब कार्यकर्ताओं का हाल जानने निकले हैं। संगठन की गतिविधियों को दोबारा शुरू करने का लक्ष्या रखा गया है। इसी कड़ी में जगह जगह प्रवास कर कार्यकर्ताओं के साथ बैठक हो रही है।

Brijesh SrivastavaSat, 04 Dec 2021 03:38 PM (IST)
अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के संस्थापक व अध्यक्ष डा. प्रवीण तोगड़िया का प्रयागराज आगमन हुआ।

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। श्रीराम मंदिर आंदाेलन में अग्रणी भूमिका निभाने वाले व विश्व हिंदू परिषद से अलग होकर संगठित और सशक्त राष्ट्र के लिए कार्य कर रहे अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के संस्थापक व अध्यक्ष डा. प्रवीण तोगड़िया दो दिन के प्रयागराज प्रवास पर हैं। शनिवार को उन्होंने बंधवा वाले बड़े हनुमान मंदिर पहुंचकर पूजन और दर्शन किया। इस दौरान उन्होंने श्रीबाघम्बरी पीठाधीश्वर महंत बलवीर गिरि से भी आशीर्वाद लिया। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु पर भी शोक जताया।

बेघर हिंदुओं को घर मिले तो ही राम राज्य आएगा : तोगड़िया

प्रयागराज आगमन पर प्रवीण तोगडि़या ने कहा कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर बन रहा है, यह खुशी की बात है। देश में राम राज्य लाना अभी बाकी है। यह तभी संभव होगा जब एक करोड़ से अधिक बेघर हिंदुओं को घर मिलेगा। उनके जीवन स्तर को भी सुधारना होगा। बेरोजगारों को रोजगार दिलाना होगा। प्रत्येक किसान को उनकी फसल की कीमत भी दिलानी होगी।

बोले, भाजपा सदन में कानून बनाकर काशी और मथुरा में भव्‍य मंदिर निर्माण करे

उप मुख्यमंत्री केशव के ट्वीट अयोध्या, काशी भव्य निर्माण जारी है, मथुरा की तैयारी है पर टिप्पणी करते हुए डा. तोगड़िया ने कहा कि सत्ता में बैठे लोगों के लिए संकल्प नहीं होता। उन्हें मजबूत इच्छा शक्ति के साथ कार्य करना चाहिए। संकल्प सत्ता से दूर बैठा व्यक्त ले तो बात समझ में आती है। भाजपा को चाहिए कि सदन में कानून बनाकर काशी और मथुरा में भव्य मंदिर का निर्माण करें। प्रत्येक सत्ताधारी दल को बताना होगा कि युवाओं को रोजगार दिलाने, सस्ती शिक्षा, आरोग्य जीवन व खुशहाल किसान के लिए क्या रोड मैप है। इन्हीं समस्याओं के समाधान से देश में रामराज्य आएगा।

अखंड भारत के साथ वीर हिंदू, विजेता हिंदू का संकल्प

संगमनगरी आगमन के प्रयोजन के सवाल पर डा. तोगड़िया ने कहा कोरोना के चलते दो वर्षों से सभी गतिविधियां बंद थीं। अब कार्यकर्ताओं की कुशल जानने निकले हैं। संगठन ने अखंड भारत के साथ वीर हिंदू, विजेता हिंदू का संकल्प लिया है। इस अभियान को पूरा करने के लिए मैं व्यायाम करूंगा कार्यक्रम चलाया जा रहा है। त्रिशूल धारण और 20 हजार स्थानीय परिवारों में राष्ट्र पूजन भी किया जाएगा। युवाओं को अधिक से अधिक सेना में शामिल होने का भी आह्वान किया जा रहा है। त्रिशूल धारण अभियान 14 अगस्त से शुरू हुआ है। 19 दिसंबर को रायपुर में बड़े स्तर पर आयाेजन होने जा रहा है। इसमें पांच हजार युवा त्रिशूल धारण करेंगे।

त्याग और बलिदान की परंपरा बनाए रखना जरूरी

डा. तोगड़िया ने कहा कि श्रीराम मंदिर आंदोलन के चार स्तंभ थे। विहिप प्रमुख अशोक सिंहल, महंत अवैद्यनाथ, अयोध्या के राम चंद्र परमहंस और बाला साहब ठाकरे। इन सभी लोगों को भारत रत्न दिया जाना चाहिए। वह इसके लिए मुहिम शुरू कर रहे हैं। इनके त्याग और बलिदान के चलते मंदिर आंदोलन लक्ष्य तक पहुंच सका। समाज में त्याग और बलिदान की परंपरा को बनाए रखना चाहिए। उसे पूरा सम्मान मिलना चाहिए।

देश को एकता के सूत्र में पिरोने के लिए हिंदुत्व का भाव जरूरी

झूंसी के पटेलनगर स्थित एमआरएस स्कूल एंड कालेज में शुक्रवार को हिंदू रक्षा निधि अर्पण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के संस्थापक एवं अध्यक्ष डा. प्रवीण तोगड़िया भी शामिल हुए। उन्होंने शिक्षा और रोजगार जनित व्यापार के साथ बालिकाओं की शिक्षा पर बल दिया। डा. तोगड़िया ने कहा कि राष्ट्र को एकता के सूत्र में पिरोने के लिए जरूरी है कि हिंदुत्व के भाव को जगाएं। ऐसा करने से संस्कृति की रक्षा और उसका उत्थान भी संभव होगा। कार्यक्रम स्थल पर झूंसी व सरायइनायत थाना की पुलिस तैनात रही। इस दौरान स्कूल के प्रबंधक आनंद सिंह पिंटू, प्रदीप कुमार सिंह, अंकित सिंह, अरुण श्रीवास्तव, अवधेश कुमार सिंह, हरि प्रकाश पांडेय, हर्ष वर्धन सिंह, अजीत सिंह आदि मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.