top menutop menutop menu

छिवकी स्टेशन पर भूख से बेहाल यात्रियों ने लूटे खाने के पैकेट Prayagraj News

प्रयागराज,जेएनएन। महाराष्ट्र से बिहार जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन के भूखे कामगारों ने सोमवार को प्रयागराज के छिवकी स्टेशन पर खाद्य सामग्री के पैकेट लूट लिए। प्लेटफॉर्म पर एक स्टॉल में तोडफ़ोड़ कर खानपान का सारा सामान लूट लिया। लगभग साढ़े छह हजार लोगों को वितरित करने के लिए रखे गए खाद्य सामग्री के पैकेट लूटने की सूचना पर मंडल रेल प्रबंधक प्रयागराज अमिताभ अधिकारियों के संग पहुंचे। हालांकि उससे पहले ट्रेन आगे को रवाना हो चुकी थी।

पहले कैटरिंग स्‍टॉल में खाने सामान खत्‍म हुआ तो राहत पैकेट पर टूट पडे यात्री

श्रमिक स्पेशल ट्रेन (नंबर 09399) महाराष्ट्र के पालघाट से बिहार शरीफ जा रही थी। ट्रेन सोमवार को दोपहर 11.40 बजे प्रयागराज छिवकी स्टेशन के प्लेटफार्म एक पर आई। गाड़ी खड़ी हुई तो कुछ यात्री प्लेटफॉर्म की दूसरी तरफ उतर गए और रेलवे लाइन लांघ कर स्टेशन के नए भवन के पास पहुंच गए। वहां पर बना कैटरिंग स्टॉल बंद था। इस पर लोगों ने स्टॉल का शटर तोड़कर उसमें रखी खानेपीने की सभी चीजें ले लीं। उनको देख ट्रेन से और यात्री भी उतरकर वहां पर आ गए। जब उन्हें खाने के लिए कोई सामान नहीं मिला तो स्टॉल के पीछे रखी हुई खाद्य सामग्री के पैकेट उठाना शुरू कर दिया जो श्रमिक स्पेशल टे्रनों में वितरण के लिए ही रखे गए थे। देखते ही देखते करीब 200 से ज्यादा लोग वहां पहुंच गए।

आरपीएफ और जीआरपी को पीछे हटना पडा

यात्रियों ने साढ़े छह हजार लोगों के लिए रखी खाद्य सामग्री के पैकेट उठा लिए। यह देख स्टेशन पर तैनात किए गए आरपीएफ तथा जीआरपी के जवान जब वहां पर पहुंचे तो लोग उग्र हो गए और हंगामा शुरू कर दिया। रेल ट्रैक और आसपास जो भी चीजें पड़ी थीं, उसे उठा लिया। भीड़ ज्यादा होने पर आरपीएफ और जीआरपी के जवानों ने कोई कार्रवाई नहीं की। लोग खानेपीने का पूरा सामान उठाकर कोचों में लौट गए। प्लेटफार्म पर खाद्य पैकेट लूटने की सूचना तत्काल कंट्रोल रूम को दी गई। जानकारी मिलने पर मंडल रेल प्रबंधक प्रयागराज अमिताभ मातहतों के साथ स्टेशन के लिए रवाना हुए। उग्र लोग स्टेशन पर और कोई तोडफ़ोड़ न करें तो आरपीएफ और जीआरपी ने सभी यात्रियों को समझाकर ट्रेन में बैठाया तब जाकर दोपहर 12.25 बजे स्पेशल ट्रेन बिहार के लिए रवाना हुई।

चार ट्रेनों में वितरण के लिए रखे थे खाद्य सामग्री के पैकेट

बिहार जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन के लोगों को प्रयागराज छिवकी स्टेशन पर खाना और पानी दिया जा रहा है। स्टेशन के नए भवन में चार ट्रेनों के यात्रियों यानी लगभग साढ़े छह हजार लोगों के लिए खाने के पैकेट बनाकर रखे गए थे। उसमें मठरी, पाव रोटी, लाई और चना था। जब कोई स्पेशल ट्रेन स्टेशन पर रुकती है तो 1600 लोगों के हिसाब से खाना और पानी ट्रेन के पास भेज दिया जाता है। रेलवे के अधिकारी और कर्मचारी लोगों को पैकेट का वितरण करते हैं।

ट्रेन में यात्री की तबीयत खराब होने पर जताया आक्रोश

श्रमिक स्पेशल ट्रेन जब प्रयागराज छिवकी स्टेशन पर खड़ी हुई तो कुछ कामगारों ने टे्रन में दो लोगों की तबीयत खराब होने की बात कही और आक्रोश प्रकट करते हुए ट्रेन को जल्दी चलाने के लिए कहा। आरपीएफ व जीआरपी के जवान वहां पहुंचे तो लोग उन्हें देख कर पीछे हट गए। उसके बाद किसी ने कोई बात नहीं कही।

डीआरएम ने दो घंटे खड़े होकर बंटवाए खाने के पैकेट

प्रयागराज छिवकी स्टेशन पर खाद्य सामग्री के पैकेट लूटे जाने की सूचना पर डीआरएम प्रयागराज अमिताभ एक बजे के बाद स्टेशन पर पहुंचे, तब तक पालघाट से बिहार शरीफ जाने वाली ट्रेन जा चुकी थी। डीआरएम ने पूरी घटना की जानकारी अधिकारियों से ली। उसके बाद उन्होंने दो घंटे तक स्टेशन पर रहकर श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में खाद्य सामग्री के पैकेट बंटवाया और अन्य व्यवस्था को दुरुस्त कराया। इस दौरान सीनियर डीसीएम नवीन दीक्षित, आरपीएफ के सीनियर कमांडेंट मनोज ङ्क्षसह, एसडीएम करछना आकांक्षा राणा, सीओ आशुतोष तिवारी समेत कई अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

 

स्‍टेशनों पर बढ़ा दी गई है फोर्स

प्रयागराज मंडल के डीआरएम अमिताभ ने बताया कि प्रयागराज के छिवकी स्टेशन पर श्रमिक स्पेशल ट्रेन में लोगों को खाना-पानी देने की समुचित व्यवस्था थी। लोग प्लेटफार्म की दूसरी तरफ उतर गए। एक स्टॉल में तोडफ़ोड़ की। उसका सामान लूट लिया। लोगों को देने के लिए रखे लगभग साढ़े छह हजार खाद्य सामग्री के पैकेट भी लूट लिए। स्टेशन पर दोबारा ऐसी कोई घटना न हो, इसके लिए वहां पर फोर्स बढ़ा दी गई है। श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में सफर करने वालों से अपील है कि वह धैर्य रखें। रेलवे उनके लिए खाने और पानी की पूरी व्यवस्था कर रहा है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.