Omicron Variant: ओमिक्रोन की आहट से ट्रिपल आइटी में छात्र-छात्राओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी

Omicron Variant ट्रिपल आइटी संस्थान में हुई आपातकालीन उच्च स्तरीय बैठक में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन पर चर्चा हुई। देश में नए वैरिएंट ने दस्तक दे दी है। इस लिहाज से सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि किसी भी छात्र-छात्रा को कैंपस में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

Brijesh SrivastavaPublish:Sat, 04 Dec 2021 04:53 PM (IST) Updated:Sat, 04 Dec 2021 04:53 PM (IST)
Omicron Variant: ओमिक्रोन की आहट से ट्रिपल आइटी में छात्र-छात्राओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी
Omicron Variant: ओमिक्रोन की आहट से ट्रिपल आइटी में छात्र-छात्राओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (ट्रिपल आइटी) ने देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन की आहट से संस्थान में छात्र-छात्राओं के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी है। साथ ही कैंपस में लौटे भावी टेक्नोक्रेट्स को वापस घर जाने का निर्देश भी जारी किया है। यह अहम फैसला प्रयागराज में संस्थान के निदेशक प्रोफेसर पी नागभूषण की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया है।

संस्‍थान में आपातकालीन उच्‍च स्‍तरीय बैठक में लिया गया निर्णय

ट्रिपल आइटी संस्थान के एसोसिएट डीन स्टूडेंट वेलफेयर डाक्टर विजय कुमार श्रीवास्तव की तरफ से जारी सूचना के मुताबिक पिछले दिनाें संस्थान ने आपातकालीन उच्च स्तरीय बैठक बुलाई थी। बैठक में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन की स्थितियों को लेकर चर्चा हुई। देश में नए वैरिएंट ने दस्तक दे दी है। इस लिहाज से सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि किसी भी छात्र-छात्रा को कैंपस में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। यह भी निर्णय लिया गया कि जिन लोगों को पहले कैंपस में शामिल होने की अनुमति दी गई थी, लेकिन व्यक्तिगत कारणों से वह संस्थान में शामिल नहीं हो सके, उन्हें भी अगले आदेश तक परिसर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

संस्‍थान कोरोना के नए वैरिएंट से निपटने के लिए रणनीति बना रहा

डाक्टर विजय कुमार श्रीवास्तव की तरफ से जारी सूचना में कहा गया है कि संस्थान छात्रों के हितों की रक्षा करने के साथ कोरोना के नए वैरिएंट से निपटने के लिए रणनीति तैयार करने का प्रयास कर रहा है। ऐसे में वर्तमान स्थिति से निपटने के सभी के समर्थन की आवश्यकता है। देश में कोविड की स्थिति और शिक्षा मंत्रालय के निर्देशों के अनुसार संस्थान इस मामले में जल्द ही कोई निर्णय लेगा। छात्रों से यह भी कहा गया है कि वह कैंपस में प्रवेश के लिए व्यक्तिगत तौर पर ई-मेल भेजने की जगह अपना अनुरोध जिमखाना (छात्रसंघ) को भेज सकते हैं। इसके पीछे तर्क दिया गया है कि सभी निर्णय जिमखाना की सिफारिश के अनुसार किए जाएंगे।