North Central Railway: एनसीआर ने 145 लाख टन माल ढुलाई कर बनाया कीर्तिमान Prayagraj News

उत्तर मध्य रेलवे ने माल ढुलाई, स्क्रैप बिक्री से राजस्व बढ़ाने में उपलब्धि हासिल की।

North Central Railway जनवरी तक उत्तर मध्य रेलवे की प्रारम्भिक माल लदान से राजस्व 1458 करोड़ रुपये थी जो पिछले वित्तीय वर्ष की सामान अवधि में अर्जित राजस्व से 352 करोड़ रुपये अधिक है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में स्क्रैप वस्तुओं की नीलामी बिक्री से प्राप्त राजस्व 223.65 करोड़ रुपये है।

Brijesh SrivastavaWed, 24 Feb 2021 11:46 AM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। उत्तर मध्य रेलवे ने महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी के नेतृत्व में माल ढुलाई, स्क्रैप बिक्री से राजस्व बढ़ाने में उपलब्धि हासिल की। इस वित्तीय वर्ष में अब तक एनसीआर ने कुल 145 लाख टन माल ढुलाई की। जनवरी तक माल लदान से 1458 करोड़ रुपये राजस्व मिला, जो 2019-20 के समान अवधि में माल लदान से 8.7 फीसद अधिक है। स्क्रैप वस्तुओं की नीलामी से 22 फरवरी तक प्राप्त राजस्व 223.65 करोड़ रुपये है, जो पिछले वित्तीय वर्ष में प्राप्त राजस्व  से 30 करोड़ रुपये अधिक है। 

माल लदान से राजस्व में वृद्धि

जनवरी तक उत्तर मध्य रेलवे की प्रारंभिक माल लदान से राजस्व 1458 करोड़ रुपये थी, जो पिछले वित्तीय वर्ष की सामान अवधि में अर्जित राजस्व से 352 करोड़ रुपये अधिक है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में स्क्रैप वस्तुओं की नीलामी बिक्री से दिनांक 22 फरवरी तक प्राप्त राजस्व 223.65 करोड़ रुपये है, जो रेलवे बोर्ड से निर्धारित पूरे साल के लक्ष्य 210 करोड़ रुपये को पहले ही पार कर चुकी है। उत्तर मध्य रेलवे वर्ष 2019-20 में प्राप्त 224.5 करोड़ रुपये की अब तक की उच्चतम वार्षिक स्क्रैप बिक्री को एक बड़े अंतर से तोडऩे के लिए तैयार है। 

रेलगाडि़यों के समय पालन पर भी रहा जोर

ट्रेन परिचालन से संबंधित प्रमुख प्रदर्शन सूचकांकों ने भी उत्तर मध्य रेलवे पर पर्याप्त सुधार दिखाया है। अब तक वित्तीय वर्ष में मालगाडिय़ों की औसत गति 44.43 किमी प्रति घंटा है, जो पिछले वर्ष की तुलना में 85 फीसद का सुधार है। ट्रेनों की उत्कृष्ट गतिशीलता को बनाए रखते हुए प्रयागराज मंडल ने एक व 21 फरवरी को 386 ट्रेनों का दैनिक थ्रु-पुट प्राप्त किया, जो अभी तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। यात्री गाडिय़ों की समयपालनता 86 फीसद है, जो कि पिछले वर्ष की समान अवधि के दौरान 55 फीसद की समयपालनता  के मुकाबले 56 फीसद अधिक है। फऱवरी 2021 के दौरान  झांसी और आगरा मंडलों ने चार दिनों पर यात्री गाडिय़ों का समयपालनता के साथ परिचालन किया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.