Magh Mela 2021 : मेले में आम श्रद्धालुओं के लिए कोई पाबंदी नहीं, मास्क लगाइए और पहुंच जाइए

मेला में कोविड केयर कार्ड और कोरोना की पांच दिनों पहले की जांच रिपोर्ट सिर्फ कल्पवासियों पर ही लागू रहेगी।

कोविड-19 के नोडल अफसर डॉ. ऋषि सहाय ने बताया कि सभी को स्वस्थ रखने के लिहाज से स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी की है। मेला क्षेत्र में कोई कोरोना संक्रमित न रहने पाए इसके लिए तमाम नियम बनाए गए हैं। कोविड केयर कार्ड केवल कल्पवासियों के लिए अनिवार्य किया गया है।

Publish Date:Wed, 13 Jan 2021 10:03 PM (IST) Author: Ankur Tripathi

प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना वायरस काल के बीच शुरू हुए माघ मेला में आम श्रद्धालुओं के जाने पर कोविड प्रोटोकाल संबंधी कोई पाबंदी नहीं रहेगी। मेला क्षेत्र में कोविड केयर कार्ड और कोरोना की पांच दिनों पहले की जांच रिपोर्ट सिर्फ कल्पवासियों पर ही लागू रहेगी। यदि किसी में लक्षण दिखा तो प्रवेश द्वार पर थर्मल स्कैनिंग होगी। मेला क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाएं सभी के लिए मुहैया कराई गई है।

कोविड केयर कार्ड और कोरोना जांच रिपोर्ट सिर्फ कल्पवासियों के लिए अनिवार्य

माघ मेला क्षेत्र में जाने पर तमाम लोगों में कोरोना जांच रिपोर्ट को लेकर असमंजस है। प्रवेश वाले रास्तों पर पुलिस की रोक टोक, स्वास्थ्य विभाग की सचल टीमों द्वारा जांच किए जाने को लेकर तरह-तरह की चर्चा है। कोविड-19 के नोडल अफसर डॉ. ऋषि सहाय ने स्थिति को स्पष्ट करते हुए बताया कि सभी को स्वस्थ रखने के लिहाज से स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी की है। मेला क्षेत्र में कोई कोरोना संक्रमित न रहने पाए इसके लिए तमाम नियम बनाए गए हैं। कोविड केयर कार्ड केवल कल्पवासियों के लिए अनिवार्य किया गया है। इसकी जांच पड़ताल उनके शिविर में होगी। जबकि सामान्य श्रद्धालु जो प्रमुख स्नान पर्वों या फिर अन्य दिनों में मेला क्षेत्र में जाते हैं वे केवल आपस में दो गज दूरी, मास्क लगाए रहने और सैनिटाइजर प्रयोग के नियम का पालन करते रहें। कोविड केयर कार्ड या कोरोना जांच रिपोर्ट को लेकर श्रद्धालु चिंतित न हों। किसी के बीमार दिखने की स्थिति में यदि थर्मल स्कैनिंग होती है तो श्रद्धालु सहयोगात्मक रवैया अपनाएं। बुखार, खांसी या सांस लेने में तकलीफ आदि लक्षण महसूस हों तो अपने साथ आए संबंधियों से भौतिक दूरी बना लें और कोरोना की जांच कराएं। 

108 नंबर पर करें काल

माघ मेला क्षेत्र में त्रिवेणी मार्ग पर तथा गंगा नदी के दूसरी ओर 20-20 बेड के दो अस्पताल बनाए गए हैं। इसके अलावा एंबुलेंस की सुविधा अधिकांश स्थानों पर उपलब्ध रहेगी। कहीं किसी को दिक्कत होने पर 108 नंबर पर फोन करके एंबुलेंस की सेवा ली जा सकती है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.